Pages

देवनागरी में लिखें

Saturday, 28 January 2012

" चौथे कंधे की तलाश पूरी हो गई..... :) :) "

 




 






क्षमा प्राथी हूँ , उन माँ से जिनके बच्चे हैं , मैं उनसे बच्चे छीने नहीं प्यार से पाए है.... :) मैं  उनके लिए कुछ भी नहीं की , न तो दिनों का चैन और न तो रातों का नींद खोई हूँ.... :) मैं , बहुत सालों तक डंक सहे है..... :(

(१) एक आखँ के आखँ न और एक बच्चा के बच्चा  न कहल जाला.... :(

(२) सुबह , सुबह बाँझ के मुहँ देखल ठीक , एकुंझ के मुहँ देखल ठीक न..... :(

(३) मरबू त , चार कंधा कहाँ से ले अयबू..... :(

अपने नासूर बने जख्मों को भर रही हूँ.... :):)

मुझे इन बच्चों को पाकर लग ही नहीं रहा , कि मुझे एक बेटा है.... :):)
अगर किसी बच्चे को लगे कि ये मेरी गलतफहमी है तो अलग बात है.... :(

" मेरे लिए , चौथे कंधे की तलाश पूरी हो गई..... :) :) "

38 comments:

  1. इतनी उंगलियाँ हुईं थामने के लिए .... चार कांधा अभी नहीं

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी बातें , आखों में आसूँ ला देते हैं.... :)

      Delete
    2. Bilkul sahi kaha aaone Rashmi ji!

      Delete
  2. आप मुस्कुराती रहें विभा जी:)
    अभी तो बहुत दूर तक चलना है... कन्धों की बात अभी नहीं... अभी जीवन की धूप छाँव में हम सब पर स्नेह का आँचल बन कर छाना है आपको!

    ReplyDelete
  3. Replies
    1. मैं तो अपना भविष्य सुनिश्चित करना चाह रही थी , ताकि खिलखिला के हँस सकूँ.... :):)

      Delete
  4. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  5. kya aunty....koi kandhaa nai....haath pakadiye aur bas chaliye saath abhi to aapko bahut saari achiements ka hissa banna hai ...wo achivements jo mehboob ,hum aur baaki saare achieve karenge n aapko uspe proud feel karna hai...abhi to masti tym hai...so no sad sad.... :)

    Mrigank :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. mai ,un tak sandesh pahunchana chahti (jo pahunch bhi gayaa hoga)thi , jinhone mujhe jakhm diye the.... :) Love you ,Mrigank.... :)

      Delete
  6. allah na kare ... kandhey ki baat aaye .. may long live...
    ungli ke baad haanth pakdne ki baat hoti hai ... n fir ek dusre ke kandhey me haanth daal ke smile share krne ki...

    may lord always keeps us together n reachable ... :) :) :) :)

    ReplyDelete
  7. बहोत अच्छे ।

    नया ब्लॉग

    http://hindidunia.wordpress.com/

    ReplyDelete
  8. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  9. aunti...sab ka kahna bilkul theek hai...aisi baat kabhi bhi phir nahi kijiyega...aur aapki ungli hamesha hum pakde rahenge...itna pyaar jo mil raha hai :)

    ReplyDelete
  10. Agree With Khubu... Aainda esi baat nahi plz... Abhi Abhi to Naye Pankh mile hai, Abhi to bahut Aage jana hai... Apna Sneh banaye rakhna... Luv U Aunty Ji

    ReplyDelete
    Replies
    1. Sorry..... Sabse..... aisi baate phir kabhi nahi..... Love U too..... :)

      Delete
  11. Auntyji... abhi to sirf yahi hain aur naati-pote to aane baki hain... to kandhe ki baat chhoriye aur unke liye stories likhiye abhi se taaki baad mei problem na ho... hehe- nindiya

    ReplyDelete
    Replies
    1. usi ki taiyari kar rahi hoo ,ekdam sachchiwali kahaani........ :):)bitiyaa ji.....

      Delete
  12. माई डीयर, कन्धों की कमी हमें नहीं होगी | फिर कन्धों की तलाश दूसरों को करनी है | हमें तो अपनी जिंदगी अपने हिसाब से जीनी है |

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद दोस्त ,आपके हौसला बढ़ाने के लिए.... :)

      Delete
  13. विभा जी अभी तो बहुत दूर तक चलना है..अभी से कंधो की बात मत करो..

    ReplyDelete
    Replies
    1. दीदी पुन: " जी " का लगाम कहाँ से आ गया ,आपका आशीर्वाद बना रहे.... :)

      Delete
  14. क्या बुआ ..... आप भी ..... अभी तो गाना गाइए, थोडा सा मुस्कुरायिए ..... क्यों की

    ज़िन्दगी एक सफ़र है सुहाना , यहाँ कल क्या हो किसने जाना ..... :)

    ReplyDelete
  15. चलो मिल कर गाते है......ज़िन्दगी एक सफ़र है सुहाना , यहाँ कल क्या हो हमने जाना .... :) Love U.... :)

    ReplyDelete
  16. जिंदगी ज़िंदा दिली का नाम है,....

    my new post...40,वीं वैवाहिक वर्षगाँठ-पर...

    ReplyDelete
  17. क आखँ के आखँ न और एक बच्चा के बच्चा न कहल जाला.... :(

    (२) सुबह , सुबह बाँझ के मुहँ देखल ठीक , एकुंझ के मुहँ देखल ठीक न..... :(

    (३) मरबू त , चार कंधा कहाँ से ले अयबू.....

    उफ्फ्फ्फ़.....!!

    नमन आपको .....!!

    ReplyDelete
  18. मरबू त , चार कंधा कहाँ से ले अयबू??

    बिहार के ही एक छोटे से शहर से हूँ, कायस्थ हूँ, भोजपुरी-भाषी हूँ, और इतनी छोटी उम्र में भी समझ सकता हूँ कि कितना मर्म छिपा है आपकी बातों में.
    लेकिन जैसा औरों ने भी कहा, लोगों की सुनते रहें तो हम न सिर्फ अपनी ज़िन्दगी गंवाते रहेंगे, बल्कि जो कुछ अच्छा कर सकते हैं, वो भी न कर पाएंगे!
    आप महज़ चार की बात कर रही हैं, अरे आपको हज़ार कंधे मिलेंगे, मरने को नहीं, जीने के लिए!! ढेरों शुभकामनाएं! :)

    ReplyDelete
  19. जीवंत बने रहने का नाम जीवन है..... तो फिर ऐसे ख्याल ही क्यों...?

    ReplyDelete
  20. जिन्दगी इसी का नाम है ...जिन्दादिल रहो ....!

    ReplyDelete
  21. विभा जी एक शेर याद आया
    नासमझ बन ना , हर और निराशा देखो |
    मौज में डुबो ना ऊपर से तमाशा देखो ||
    जिंदगी दर्द की पुस्तक इसे पढ़ लेना |
    व्याकरण छोड़ कर अनुभूति की भाषा सीखो ||


    bahut hi sundar jindagi ki behatar abhivykti ke liye abhar

    ReplyDelete
  22. ये चार कांधे वाली बात अच्‍छी नहीं लगी ... आप अपना स्‍नेह यूँ ही लुटाती रहें ..अनंत शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  23. शरीर के अंदर आत्मा तो सैदेव ही सत्-चित-आनंद स्वरुप है.
    आत्मा में रमण करने से,शरीर केवल वस्त्र मात्र ही तो लगता है.
    आत्म रमण प्रेम और रस से परिपूर्ण बताया जाता है.
    चार कंधें हों या एक या एक हजार क्या फर्क पड़ता है,फिर.

    ReplyDelete
  24. मेरे ब्लॉग पर अआप्का हार्दिक स्वागत है,विभा जी.
    जिंदगी एक सफर है सुहाना...

    ReplyDelete
  25. विभा जी जिस स्त्री की पीड़ा को आपने प्रकाशित किया वह तानों की लपटों में दिन रात झुलसती है पर बच्चों के होते बिन बच्चों वाला दर्द भोग रहे बुजुर्गों की पीड़ा ....जो जानते हैं कि कंधा भी होगा और अंतिम संस्कार के नाम पर वैभव प्रदर्शन भी ....पर आज कोई एक कंधा इतना मजबूत नहीं जो जीवित माँबाप का बोझ उठा सके

    ReplyDelete
  26. आज फुरसत से आप का ब्लौग पढ़ रहा हूं....इतनी सत्यता शायद किसी और के ब्लौग पर नहीं मिलती..
    इतने अनुभव कोई भी एक दूसरे के साथ नहीं बांटता....
    आप का ब्लौग तो एक खुली किताब के समान है....




    ReplyDelete
  27. दीदी....समझ नही पा रही क्या कहूं...,बस ढेर सारा प्यार....है आपके लिये आपकी लल्ली के दिल में...। ढेर सारी शुभकामनायें.....:)..

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... ये तो आप ही बताएगें .... !!
आपकी आलोचना की जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!