Pages

देवनागरी में लिखें

Friday, 24 November 2017

"इंसाफ"


"-अरे! ये क्या? आज का भोजन किसने तैयार किया है?" रात्रि भोजन के समय सभी खाने पर ज्यूँ ही एकत्रित हुए... थाली पर नजर पड़ते ही पिताजी चिल्ला उठे...
"-जरूर ई खाना मेरी पत्नी का बनाया हुआ है" सबसे छोटे बेटे की क्रोधित आवाज गूंजी...
"-सब जानते हैं उसे खाना बनाने में मन नहीं लगता है , फिर उसे क्यों बनाने दिया गया?" बड़े बेटे की दुखित आवाज गूंजी...
"-तो क्या केवल मेरी पत्नी ही चूल्हे में जलती रहे?" मझले बेटे की तीखी आवाज आई...
"-घर में कलह बढ़ता जा रहा था... दिन के भोजन बनाने के समय छोटी बहू नहाने-धोने व कमरे की सफाई की व्यस्तता का दिखावा करते हुए चौके की तरफ मुँह नहीं करती है... शाम में बाहर घूमने निकल गई या केवल सब्जी बनाने में हाँथ बंटा जिम्मेदारी समझ ली... परिवार नहीं टूटे अतः सुबह शाम खाना बनाने का बंटवारा मैं कर दी"
"लो बहुत होशियारी की हो तो खाओ आज मजेदार लज्जतदार खाना... दो रोटी के बराबर एक , तीन रोटी के बराबर एक , चार रोटी के बराबर एक रोटी"
"ना निमन गीत गायब ना दरबार बुला के जाएब" मझले बेटे-बहू की एक साथ व्यंग्यात्मक आवाज गूंजी
"छोटी बहू के साथ किसी का सम्पर्क नहीं होगा और वो केवल अपना खाना तब तक अलग बनाएगी जब तक सबके लिए पतली रोटी बनाना शुरू नहीं कर देती है..." पिताजी की रोबदार आवाज गूंज गई...

Monday, 13 November 2017

"मसक गया"


"बहुत देर हो गई दी आज ... रात के दस बज गए... 
ये लोग दिन में कार्यक्रम क्यों नहीं रखते हैं? 
रात में ही रखना जरूरी हो तो परिवार संग आने की अनुमति देनी चाहिए... है न दी...
वैसे विमर्श में सभी की बातें बहुत जोश दिलाने वाली थी"
"बातों में मशगूल हो हम गलत रास्ते पर आ गए बहना... ज्यादा देर होने से घबराहट और अंधेरा होने से शायद हम भटक गये... आधा घन्टा बर्बाद हो गया और देरी भी हो गई..."
दो क्लब के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित कार्यक्रम जिसमें विषय था कि "आज की सामाजिक दृष्टिकोण के कारण एक अत्यंत ही महत्वपूर्ण वक्तव्य सामने आया है कि क्या पुरुष की दृष्टि में नारी का महत्व उसके शारीरिक आकर्षण और पहरावे के कारण है जिसकी कल्पना और कामना वह अपने लिये करता है ? क्या आधुनिक नारी केवल शारीरिकक सुन्दरता का प्रतीक है" से शामिल हो जोश से भरी ऑटो की तलाश कर रही बहनें देर होने से चिंताग्रस्त थी... तभी एक का फोन घनघनाया
हैलो!"
"इतनी रात तक कहाँ बौउआ रही हो?"
"बैठ गए हैं ऑटो में बस पहुंचने वाले ही हैं"
"बहुत पंख निकल गया है ... बहुत हो गई मटरगश्ती... 
कल से बाहर निकलना एकदम बन्द तुम्हारा..."
"पूछ! नहीं लौटूँ जेल, चली जाऊँ दीदी के घर..."