Pages

देवनागरी में लिखें

Tuesday, 14 February 2017

पुस्तक मेला + वेलेंटाइन डे





चित्र में ये शामिल हो सकता है: 6 लोग, लोग बैठ रहे हैं

पटना (बिहार) में पुस्तक मेला (चार फरवरी से चौदह फरवरी) और वेलेंटाइन डे सप्ताह भर संग संग


कोई भी स्वचालित वैकल्पिक पाठ उपलब्ध नहीं है.चित्र में ये शामिल हो सकता है: 2 लोग, लोग खड़े हैं

ठिठकी भीड़
कुम्हार चाक देख
पुस्तक मेला
रो रहा प्रकाशक
स्व स्टॉल खाली पाया

चित्र में ये शामिल हो सकता है: 4 लोग, लोग खड़े हैं 

चहूँ ओर सत राग का शोर बड़ा
बता दो किनके गले में छाला पड़ा
हाँ तो गर्म दूध जिनके मीत ने पीया
कड़ा सवाल सुनते क्यूँ लकवा जड़ा

<><>
दिवस प्यार –
उजड़ा बाग़ देख
रोया पड़ोसी
<><>
पुस्तक मेला-
कुम्हार चाक संग
भीड़ ले सेल्फ़ी



9 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" गुरुवार 16 फरवरी 2017 को लिंक की गई है.... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 16-02-2017 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2594 में दिया जाएगा
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  3. आज सलिल वर्मा जी ले कर आयें हैं ब्लॉग बुलेटिन की १६०० वीं पोस्ट ... तो पढ़ना न भूलें ...


    ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, "सोलह आने खरी १६०० वीं ब्लॉग बुलेटिन “ , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  4. पुस्तक मेला-
    कुम्हार चाक संग
    भीड़ ले सेल्फ़ी

    ReplyDelete
  5. सभ्‍ाी जगह का यही हाल। लोग आते नहीं पुस्‍तक मेले में। सुंदर लि‍खा।

    ReplyDelete
  6. वाह बहुत बढ़िया , आपकी पोस्ट से पटना पुस्तक मेला के दर्शन हो गए

    ReplyDelete
  7. दिल्ली पुस्तक मेले में तो जा चुका हूँ , पटना में भी पुस्तक मेला लगता हैं इसकी जानकारी नहीं थी।
    आपकी पोस्ट से पटना पुस्तक मेला के दर्शन हो गए

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... ये तो आप ही बताएगें .... !!
आपकी आलोचना की जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!