Pages

देवनागरी में लिखें

Tuesday, 12 June 2012

सूरज या आग का गोला





सूरज , आग का गोला दीखता ,
दूर - दूर बादल नजर नहीं आता ,
तन-मन दहकता ,पलक झपकता ,
मॉनसून आया , लो हो गई बरसात.... !!



                     
                           

....(छोटी सखी - छोटी बहन - बेटियाँ पुकार सुनो)....
इसमें कमी ,लिट्टी - चोखा का लगता ,
चाय-चुस्की ,गर्म - गर्म पकौडा कोई देता ....
ख़ुद बना , खाना , अच्छा नहीं लगता ,
मॉनसून आया , लो हो गई बरसात.... !!

          



       आखें बार बार खिड़की के बाहर झांकती ,
                        धूप निकलने का , इंतज़ार करती ,
                       न लग जाए आचार में फंफूदी ,डराता ,
                         मॉनसून आया , लो हो गई बरसात.... !!


 जब - जब न्यूज़ पेपर गीला हाथ लगता , 
ऐहतियात से पलट - पलट पढ़ना पड़ता ,
भुट्टों की सोंधी महक मन को ललचाता ,
मॉनसून आया , लो हो गई बरसात.... !!         


प्रकृति के सभी स्वरूप देखने - सुनने ,
महसूस करने में प्रिय लगते .....
लेकिन किन्हीं कारणों से उत्पन्न प्राकृतिक
उथल-पुथल हमें हिला देती , उथल-पुथल में ही जन -जीवन को
प्राकृतिक प्रकोप को सहना पड़ता ....
आने वाले वर्षों में और न जाने कहां-कितना होगा विनाश....
सुनामी लाता मॉनसून आया , लो हो गई बरसात.... !!

8 comments:

  1. मॉनसून आया हुई बरसात ... मुंह में भी लालच की हुई बरसात - भुट्टे , लिट्टी चोखा घी ......... आहाआआ

    ReplyDelete
    Replies
    1. मुंह में भी लालच की हुई बरसात .... !!

      Delete
  2. मॉनसून आया हुई बरसात ..

    वाह,,,, बहुत सुंदर प्रस्तुति,,,बेहतरीन रचना,,,,,

    MY RECENT POST,,,,,काव्यान्जलि ...: विचार,,,,

    ReplyDelete
  3. लग रहा है बरसात आ गई अब तो ... सुन्दर अभिव्यक्त्यी है ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार आपका .... !!
      बरसात तो बहुत दूर है .... बस मन को संतावना दी जारही है .... :)

      Delete
  4. लो आ ही गयी बरसात
    बेशक उसके पहले इस गर्मी ने जला डाला
    पर हर मौसम होता है सुहाना...
    सबका अपना अपना अंदाज
    आचार, भुट्टा... सब भा गया...
    बेहतरीन रचना दी..:)

    ReplyDelete
  5. लार टपक रहा है..उम्म..

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... ये तो आप ही बताएगें .... !!
आपकी आलोचना की जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!