Pages

देवनागरी में लिखें

Tuesday, 10 December 2013

आवेश


हाइकु 

5-7-5

लहरा आता 
क्षणिक भावावेश 
वो जीता जाता  

होश गंवाता 
देखा सत्य सामने 
खिसक लेता 

~~

संख्या का 
खेल छोडो 
एक सता 
एक बिपक्ष 
सम्भाल लो 
मंशा समझो 
तेलिया के 
तीन चांस 
मत खेलो ....

~~

बिपक्ष मजबूत होनी ही चाहिए 
बिगड़ैल हाथी पर
महावत के अंकुश जैसी 
जिसमें लोभ - मोह नहीं हो 

......................
पुष्ट घरौंदा
पैबंद लगा देता
रिसते रिश्ते 

~~~

12 comments:

  1. पुष्ट घरौंदा
    पैबंद लगा देता
    रिसते रिश्ते ... बहुत सुन्दर भाव छिपा है इसमें..

    ReplyDelete
  2. बिपक्ष मजबूत होनी ही चाहिए
    बिगड़ैल हाथी पर
    महावत के अंकुश जैसी
    जिसमें लोभ - मोह नहीं हो
    :)
    नई पोस्ट भाव -मछलियाँ
    new post हाइगा -जानवर

    ReplyDelete
  3. बिपक्ष मजबूत होनी ही चाहिए
    बिगड़ैल हाथी पर
    महावत के अंकुश जैसी
    जिसमें लोभ - मोह नहीं हो

    ...तभी तो कहा गया है कि मजबूत विपक्ष से ही सरकार सही प्रदर्शन कर पाती है.

    ReplyDelete
  4. बहुत खूब ... सच कहा है .. अब दिल्ली कबूल करो ...

    ReplyDelete
  5. सभी के सभी बहुत बढ़िया |

    ReplyDelete
  6. दिल के भावों ने शब्दों के सुंदर रूप बिखेरे हैं ......

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर आदरणीय धन्यवाद

    ReplyDelete
  8. सम सामयिक, सुंदर और संक्षिप्त

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... ये तो आप ही बताएगें .... !!
आपकी आलोचना की जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!