Pages

देवनागरी में लिखें

Friday, 6 December 2013

आंसू के रूप





आँख गहना 
आंसू के कई रूप 

5-7-5-7-7

आँख बिछुड़ी
माँ आँचल समाती
मोती बनती 
धरा अंग लगाती 
आंसू धूल सानती 

5-7-5-7-7

साथ छोड़ते
पथराई आँखों का 
नहीं निभाते
कपकपाते होठ  
बे-दर्द आंसू बैरी 


5-7-5-7-5-7-5-7-7

आँख से टूट 
बंदनवार तनी
बरौनी पर 
गम आंसू छोड़ 
पोली बांसुरी 
गुनगुनाने वाली 
जिंदगी धुन 
हृदय तान संग 
विरला बजाता है

_______________ 

12 comments:

  1. बहुत ही लाजवाब छंद हैं सभी ... दिल की छूते हुए ...

    ReplyDelete
  2. सुन्दर क्षणिकाएं.
    :-)

    ReplyDelete
  3. वाह बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  4. बहुत उम्दा भावपूर्ण प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@ग़ज़ल-जा रहा है जिधर बेखबर आदमी

    ReplyDelete
  5. क्या बात ! क्या बात ....... सभी बहुत सुन्दर |

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  7. वाह ... बहुत ही बढिया ... इस उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति के लिये आभार

    ReplyDelete
  8. आप की इस रचना में खास यह पंक्तियाँ बहुत पसंद आई है ..
    गम आंसू छोड़
    पोली बांसुरी
    गुनगुनाने वाली
    जिंदगी धुन
    हृदय तान संग
    विरला बजाता है

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... ये तो आप ही बताएगें .... !!
आपकी आलोचना की जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!