Pages

देवनागरी में लिखें

Monday, 30 December 2013

अलविदा नहीं ,जेहन में हमेशा के बस गए तुम 2013




2013

रीता या बीता 
मैं तो जीती गई 
ऊपर वाला एक पलड़े पर 
ढेर सारे गम रख देता है 
दूसरे पलड़े पर छोटी सी ख़ुशी 
रखा नहीं कि तुलसी के पत्ते 
के समान हुई 

2013 



13 अंक सभी के अनुसार अशुभ होते हैं 
15 फरवरी  को पापा के मृत्यु के बाद कुछ देर के लिए 
मेरा मन भी डगमगाया था 
लेकिन कुछ देर के लिए 
उन्हें कष्ट बहुत था 
उन्हें तो मुक्ति मिली थी 
हम दुखी अपने स्वार्थ में थे 
15 फरवरी को वसंत पंचमी था 
उसे खो जाने का तब तक अफसोस है 
जब तक हमारे कुल में नये वंश का आगमन नहीं हो जाता 
17 अगस्त को बेटे की सगाई 
और 
कोर्ट मैरेज से शुरू हुई उल्लास और उमंग 
15 दिसम्बर  को ही मैं रखी ,
 मंदिर में बेटे का शादी का दिन


रीता या बीता नहीं ,जीता गया 2013 .....
ये स्वेटर 24 साल पहले का मेरे हांथो का बुना है

मुझे हमेशा मलाल रहता था कि इनके लिए बुना हुआ ये आखरी स्वेटर होगा क्यूँ कि इन्हें बाज़ार का खरीदा स्वेटर
मोंटे कार्लो , पार्क एवेन्यु etc के स्वेटर ज्यादा पसंद आते थे ....
मुझे हमेशा लगता वे महंगे तो होते ही हैं ,साथ में उनमें गर्माहट कम है ,लेकिन समझा नहीं पाती थी 
25 दिसम्बर को सुबह सुबह ये बोले इस स्वेटर को पहन लेता हूँ तो दूसरा कुछ और पहनने की जरूरत महसूस नहीं होती । बहुत पुराना होने के बाद भी ये बहुत गर्म करता है
और 29 दिसम्बर को ये उन आ गया

 
कभी कभी चुप रह कर समय का इंतजार करना चाहिए न 
सब wish पूरी होती ही है
कहने के लिए बहुत सी बाते थी है रहेगी 2013 जाते जाते थोड़ी सी .......... दे गया ....... 
Old is Gold 


अलविदा नहीं ,जेहन में हमेशा के बस गए तुम

2013 
~~ 

10 comments:

  1. बहुत बढ़िया प्रस्तुति...आप को मेरी ओर से नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं...

    नयी पोस्ट@एक प्यार भरा नग़मा:-तुमसे कोई गिला नहीं है

    ReplyDelete
  2. आदरणीय , कुछ पल ऐसे ही होते है जो ज़हन मे बस जाते हैं , बहुत खुशी हुई शुभकामनाएं , धन्यवाद
    नया प्रकाशन --: I.A.S.I.H top 2013 ( टॉप १० हिंदी ब्लोगेर्स , हिंदी सोंग्स , टॉप वालपेपर्स , टॉप १० फ्री pc softwares वेबसाइट लिंक्स ) और ?

    ReplyDelete
  3. अच्छे प्रस्तुति ... अच्छी चित्र ..
    नव वर्ष की मंगल कामनाएँ ...

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया प्रस्तुति... चित्र..भी लाजवाब

    ReplyDelete
  5. सुख , दुख का मिला जिला रूप ही तो जीवन है...आपकी इस पोस्ट से जीवन का ये अर्थ कितना साफ समझ आता है...बहुत सुन्दर चित्रण... नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं दी।

    ReplyDelete
  6. सब कुछ जीवन का हिस्सा है ...... शुभकामनायें

    ReplyDelete
  7. ज़िंदगी जब जिस रूप में मिले सब स्वीकार...
    शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  8. अनूठे पल जिंदगी भर याद आते हैं ..
    बहुत बढ़िया ..
    नव वर्ष की मंगल कामनाएं!

    ReplyDelete
  9. ...लाजवाब चित्र बढ़िया प्रस्तुति !!

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... ये तो आप ही बताएगें .... !!
आपकी आलोचना की जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!