Pages

देवनागरी में लिखें

Saturday, 30 November 2013

बैंगलोर की यात्रा


बैंगलोर की यात्रा सुखद रही

Swati Evergreen और मैं 






Maya Shenoy, भी 


इसका सत्ताइसा था 



भतीजा बहु की बेटी 





गेम ख़त्म था … माया सोच रही है .... वो हारी कैसे ....

मैं तो बेटा को हार सीखाने के लिए सीखी थी
आज एक बार माया को जीत सीखाने में काम दे गया 

माया को एक टूर्नामेंट में भाग लेना है और 
खेलने में माहिर है नहीं और मैं जबसे गई 
उसे सीखा कर खेलने लायक बनाना चाह रही थी 

बिहार में दाल भरी पूरी
कैसे बनती है माँ
आप आज आराम कर लो
आज मैं बना लेती हूँ नाश्ता 
कल आप मुझे पूरी बनाना सीखा देना
उसे ही पूरण पोली भी कहते है क्या माँ
बिहार की दाल भरी पूरी के लिए 
जो दाल का मिश्रण तैयार करते हैं
उसमें गुड नहीं होता , लेकिन पूर्ण पोली के दाल के मिश्रण में गुड होता है
अच्छा अच्छा अब समझ गई 
कल सीख कर खाना है
चेहरे पर उत्सुकता की गजब की चमक
दुसरे दिन तैयारी को बहुत ध्यान से देखती रही , हाँथ बटाती रही 
दाल के मिश्रण को test करने के लिए थोडा ,
उसके मुंह में डाली तो एक बच्ची की तरह .............
थोडा सा और देगी माँ ...... शायद पहले बहु का संकोच 
रोक रखा हो पर एक बच्ची को कैसा संकोच .... 
माँ ये तो ऐसे ही अच्छा लग रहा है जैसे सब खा जाऊ ......
बहुत प्यारी बच्ची है 
शीशे की तरह पारदर्शी 
छल कपट से कोसो दूर 
जो दिल में होता है वही
आँखों और चेहरे पर 
साफ साफ झलकता है
उससे तो किसी को प्यार हो जाये
She say 
Mey bohot lucky hoon.. Dil se love you maa.... Rani beti  <३ <3


रोने का मन कर रहा है माँ
क्ययूँ 
इतना कहना था कि
जोर जोर से रोने लगी
और रोते रोते बोली
जाना जरूरी है
नहीं न जाइये 
साथ चलेंगे
या आप यही रहिये ना
कैसे रह जाऊ
जाना इसलिए जरूरी है
कि सबको बुलाई हूँ तो
वहाँ की व्यवस्था देखनी है
बहुत जल्द फिर तो मिल रहे है
वो नहीं जानती अभी आप नहीं जाओ
उसका रोना देख 
मैं भी बिलख पड़ी
बेटी के रूप में बिलखने का
मौका नहीं मिला
बेटी की माँ बनी नहीं
जो बिछुड़ने का मौका मिलता ,
बिलखने का ,बिखरने का मौका
एक बच्ची की सास को मिला .....

She Say
Woh pal bohot mushkil tha.. Rok nahi payi apne aap ko.....


इस से नायाब तौहफा कोई दूसरा
हो ही नहीं सकता है ।

रानी बेटी बनाई है ......

माया का हिंदी सीखने की वज़ह थी
माँ से गप्प कर सके
और
माँ का लिखा पढ़ सके .....

मेरे लिए कहीं और छपने से बड़ा सुख है
आश्चर्य भी हुआ कि
माया के सोच में ये आया .....

माँ के लिए गर्व कि बात है

LOve U Maya Shenoy

She Say
Maaa.. Feeling proud.. Bohot saalon ke baad 
hindi mey likhne ki ek choti si koshish 

&
maa love you for making me feel special




9 comments:

  1. वाह, आप आकर चली भी गयीं, आनन्द उठा कर। अच्छा लग पढ़कर। शतरंज में तो हमारा भी मन लगता है।

    ReplyDelete
  2. सही कहा - माँ के लिए गर्व कि बात है....
    ==================
    नई पोस्ट-: चुनाव आया...

    ReplyDelete
  3. सुंदर यादों का संयोजन ...

    ReplyDelete
  4. अच्छा लगा बंगलौर के सुखद यात्र के बारे में जानकर. दाल वाली पूरी खाए तो ज़माना हो गया. :)

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर .....बहु जब बेटी हो जाये तो सच में झिझक ख़त्म हो जाती हैं ....बहुत बहुत बधाई जो आपको ऐसी नेक बहु मिली और साफ़ दिल भी

    ReplyDelete
  6. सुन्दर और सजीली यादें |

    ReplyDelete
  7. sach me pariwesh badal chuke or saas bahu ka rista maa beti ban jata hai to fir ghr swarg ban jata hai .. di sabse badi baat jiska man swam nirmal ho use har chehre me prabhu ke darsan hote hai :) badhayi evam shubhkamnaye .. apka pariwaar yuhi khushaal bana rahe :)

    ReplyDelete
  8. सुंदर संयोजन यादों का...

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... ये तो आप ही बताएगें .... !!
आपकी आलोचना की जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!