Pages

देवनागरी में लिखें

Friday, 1 November 2013

हाइकु + सेदोका






हाइकु {५७५}

1

पथिकार है 
हरा दुर्मद तम
अतृष्ण दीप। 
~~
2

तमोघ्न बना 
हराया तमोभूत 
नन्हा दीपक। 
~~
3
रंग पुताई
दिल दिमाग की हो
तभी दीवाली।
~~
घर रंग हो
निकालते दिवाला
   भगाते लक्ष्मी। :P
~~
4
निकली आह
निर्धन कृश काया
भष्म दीवाली।

~~
5
पटाखा बम
फैलाता प्रदुषण
फले बर्बादी।
~~

एक सेदोका {५७७५७७}

तमिस्रा मिटा
प्रकाशमान होता
सच्चा दीपक वही
नव्य साहस
संचरण करता
विकल्प सूर्य का हो

~~





6 comments:

  1. "बहुत अच्छे
    हाइकु व सेदोका
    लिखे आपने"

    ReplyDelete
  2. शुभ दीपावली !!आशा है कि आप सपरिवार सकुशल होंगे |
    सुन्द हाइकू !

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर.
    दीपावली की शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  4. .बहुत सुन्दर.. . आप को दीपावली पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  5. बहुत गहन और प्रभावी प्रस्तुति...दीपोत्सव की हार्दिक मंगलकामनाएं!

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... ये तो आप ही बताएगें .... !!
आपकी आलोचना की जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!