Pages

देवनागरी में लिखें

Friday, 4 April 2014

आदत



आदत रही घाव को नासूर बनने नहीं देना
आदत रही किसी को भी बद्ददुआ नहीं देना
सबका हिसाब-किताब ऊपर बैठा कर देता है
आदत रही शंका को समीप आने नहीं देना

=======

चाक चलाया
नव सृजन किया 
रग्गी हर्षाये।

=======

रात्रिज छिपे 
भू बेल्लाग सन्नाटा 
ह्राद डराये ।

मूसलाधार वर्षा के बाद का धूप =रग्गी

रात्रिज = रात मे जन्म ..... नक्षत्र तारें .......... 
बेल्लाग =  स्पष्ट ...... ह्राद = मेघ का गर्जन

=======

गिरो ना नाला
हाला है हलाहल
पक्का दिवाला ।

=======

नवीन विधा 
कालजयी अध्येता 
जीवन देता।

======



बिहँसे हिय 
छूती शिखर सुता
नैन में भय।

======



========

जला मकान
खर फूस छावन
घर ढिबरी ।

==========

घनतिमिर
साया लम्बी हो जाती
स्ट्रीट प्रकाश ।

===========

हर्ष की विभा 
श्री वास्तव में मिलें 
बिखरी प्रभा ।

======



9 comments:

  1. सभी हाइकू बहुत सुंदर..और अंतिम तो लाजवाब!

    ReplyDelete
    Replies
    1. परी के प्यार के लिए आभार

      Delete
  2. जला मकान
    खर फूस छावन
    घर ढिबरी ।
    ....एक से एक गहरे अर्थो वाली पंक्तिया .......मन फ्रेश हो गया !!

    ReplyDelete
  3. क्या बात है। लाजवाब रचना।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर ... प्रखर हाइकू ... एक से बढ़कर एक ...

    ReplyDelete
  5. शब्दों की कारीगरी, सुन्दर भावों के साथ।

    ReplyDelete
  6. एक से बढ़कर एक हायकू..सभी बहुत सुन्दर....

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... ये तो आप ही बताएगें .... !!
आपकी आलोचना की जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!