Pages

देवनागरी में लिखें

Wednesday, 11 January 2017

मुक्तक





असफलता पै नसीहतें नश्तर सा लगता है
स्याह गुजरता पल शैल-संस्तर सा लगता है
बढ़ाता आस तारीफ पुलिंदा अग्नि-प्रस्तर सा
जन्म लेता अवसाद दिवसांतर सा लगता है



चित्र में ये शामिल हो सकता है: एक या और लोेग, लोग बैठ रहे हैं, लोग खड़े हैं और अंदरचित्र में ये शामिल हो सकता है: 4 लोग, लोग बैठ रहे हैं, मेज़ और अंदर



शरारत मिले फौरन आदत बना लेना
पढ़ कर तीस पारे इबादत बना लेना
इतफाक न मढ़ा शहादत गले लगाना
मुस्कुराना हलाक जहालत बना लेना

चित्र में ये शामिल हो सकता है: 1 व्यक्ति, बैठे हैं

1 comment:

  1. दिनांक 12/01/2017 को...
    आप की रचना का लिंक होगा...
    पांच लिंकों का आनंद... https://www.halchalwith5links.blogspot.com पर...
    आप भी इस प्रस्तुति में....
    सादर आमंत्रित हैं...

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... ये तो आप ही बताएगें .... !!
आपकी आलोचना की जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!