Pages

देवनागरी में लिखें

Sunday, 30 June 2013

01 - 07 - 2013



आजीवन हो
आह्लादित हृदय
एक साथ तेरा   ......
1-7-13

संतापी मन
बना जा सर्वसह                (सबका क्लेश हरनेवाला या सब सहनेवाला)
सार्वलौकिक                             (सब लोगों से संबंध रखने-वाला )

~~~~~

1 July
Happy Dr's Day    

रोग भगाता
जाँ बचाता हमारा
ख़ुदा बनता

अर्थ का मोह
तोड़ दे मरीज़ से
विश्वासी रिश्ता

 भारत में डाक्टर'स डे पश्चिम बंगाल के दूसरे मुख्यमंत्री डा॰ विधान चन्द्र राय (1 जुलाई 1882 ~~~ 1 जुलाई 1962) के सम्मान में मनाया जाता है !!....

  ~~~~~

कहाँ कृष्ण है
बस यही प्रश्न है
व्याकुल मन ..... (Sowaty)

कहाँ कृष्ण है
बस यही प्रश्न है
अन्तर्मन है ?

कहाँ कृष्ण है
बस यही प्रश्न है
सखी(नारी)चीर में ........

25 comments:

  1. 'चिकित्सा समाज सेवा है,व्यवसाय नहीं'।
    इस सूत्र पर चलने वाले डॉ भगवान तुल्य ही हैं। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  2. शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  3. आपकी यह रचना कल मंगलवार (02-07-2013) को ब्लॉग प्रसारण पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर छींटें

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर मेम
    बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  6. No word to say anything..........

    ReplyDelete
  7. जीवन बचाने वालों के प्रति सार्थक और सुंदर अनुभूति
    सादर
    ज्योति खरे

    ReplyDelete
  8. सही कहा आपने......

    ReplyDelete
  9. बहुत सही कहा विभा आप ने..

    ReplyDelete
  10. वाह डॉक्टर्स डे पर इतने सुंदर हाइकु ...!

    ReplyDelete
  11. डॉक्टर दिवस को समर्पित आपकी यह कविता प्रशंसनीय है ।....... बधाई

    ReplyDelete
  12. हाइकू के माध्यम से कितना कुछ कह दिया ...

    ReplyDelete
  13. बहुत सार्थक और सुन्दर हाइकु...

    ReplyDelete
  14. बहुत उम्दा...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर हाइकु, अर्थ और भाव से पूर्ण. शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  16. बहुत बढ़िया!

    ReplyDelete
  17. Thanks for the post, In this complex environment business need to present there company data in meaningful way.So user easily understand it .Sqiar (http://www.sqiar.com/) which is in UK,provide services like Tableau and Data Warehousing etc .In these services sqiar experts convert company data into meaningful way.

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... ये तो आप ही बताएगें .... !!
आपकी आलोचना की जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!