Pages

देवनागरी में लिखें

Monday, 29 July 2013

क्या मिला चाची को ?






चाचा(पड़ोसी ,हम 10 साल से साथ थे)की मिट्टी कल( 29-07-2013)मिट्टी में मिल गई ....
चाची अकेली रह गई ....
चाची बहुत ,बहुत ,जल्दी-जल्दी और अस्पष्ट बोलती हैं .... और ... एक ही बात को बहुत बार दोहराती हैं .... इस लिए दूसरे उन्हें झेलना पसंद नहीं करते हैं .... ये बात चाची कहती भी और समझती भी हैं .... लेकिन मेरे पास उनके लिए हमेशा समय रहा .... उनकी बेटी और मैं एक ही उम्र की होने के कारण और प्यार-सम्मान के कारण भी चाची और मेरे बीच ,माँ-बेटी का संबंध बना रहा ....
चाची जब 10 साल की और चाचा 20 साल के थे तो उनकी शादी हुई थी  .... चाची की शादी एक बड़े परिवार में हुई थी .... चाचा 12-13 भाई-बहन थे .... चाचा सबसे बड़े थे .... देवर-ननद के साथ ही चाची भी बड़ी हुई .... चाची को एक बेटी और एक बेटा हुआ .... चाचा की जब नौकरी लगी तो चाची साथ रहने लगी .... चाचा की आमदनी साधारण थी .... किसी तरह से जोड़-गाँठ कर अपने बच्चों की परवरिश और बेटी की शादी की .... बेटा ONGC में एक अच्छे पद पर नौकरी करने लगा लेकिन शादी के लिए तैयार नहीं हो रहा था .... क्यूँ कि ना जाने उसकी पत्नी कैसी आये .... उसके माता-पिता का ख़्याल ना रखे तो घर में कलह होगा .... बेटा अपने माता-पिता से बहुत प्यार करता है .... परिवार-समाज के समझाने और दबाब बनाने पर बेटा की शादी हुई .... परंतु बहू और सास-ससुर में ताल-मेल नहीं ही बैठ सका .... बेटा अपनी पत्नी को बहुत समझाने का प्रयास करता .... बहू समझौता करने की कोशिश भी करती .... लेकिन सोच की समस्या थी .... ससुर पुराने विचारों के और बहू नए विचारो की ....
 जिंदगी गुजरती रही .... बेटा के साथ जब माँ-बाप रहने के लिए तैयार नहीं हुये तो पटना में ही एक फ्लैट खरीद कर , सब सुख-सुविधा का इंतजाम कर , एक नौकर रख दिया ....लेकिन.... बुढ़ापा तो सुख-सुविधा से नहीं कटती .... वो किसी अपने के देखभाल से कटती है .... करीब 3-4 साल पहले, पटना के घर में ताला लगा कर माँ-बाप को अपने साथ(बरौदा, जहां वो नौकरी करता है)ले गया .... चाची जाते समय मेरे गले लग कर बहुत रोई कि वे अब वापस नहीं आ सकेगी और बहू के साथ वहाँ कैसे रहेंगे ....
लेकिन एक साल के बाद ही वापस आ गए चाची-चाचा .... बेटा के घर में चाची का मन नहीं लगा .... चाचा को अच्छा लगता था ,पोता का साथ था ....
चाची का कहना था कि बहू ध्यान नहीं रखती थी .... वे लोग को रखना नहीं चाहती थी .... यहाँ पटना आने के बाद चाचा-चाची दोनों बीमार रहने लगे .... चाची को ब्रेन-हेमरेज हो गया .... चाचा को बुढ़ापा परेशान करने लगा .... बेटा बार-बार आता ले जाने की जिद करता .... लेकिन चाची जिद पर अड़ी रही .... नहीं जाना था नहीं गई .... इस बीच बहू भी आई .... मेरी बहू से भी बात हुई .... नासमझी का मामला था .... जरूरत तो चाची का था बेटा -बहू का साथ .... एक साल पहले चाचा के बीमारी के कारण चाचा - चाची बेटी के घर (पटना में ही) रहने लगे .... हर महीने होता कि कुछ तबीयत संभल जाता है तो अपने घर लौट आयेंगे .... लेकिन चाचा नहीं आ सके .... आज चाची बेटे बहू के साथ घर लौटीं हैं .... चाचा का श्राद्ध-कर्म बेटे के घर से ही होना चाहिए ....
 श्राद्ध-कर्म बेटे के हाथो ही हो सकता है ना ....
चाचा को बेटी के घर अच्छा नहीं लगता था .... वे अपने पोता के साथ रहना चाहते थे .... अब चाची उसी बहू के साथ रहेगी .... क्या मिला चाची को .... ??


18 comments:

  1. samay kay saath khud mey badlav lana jaroori hai....isi mey apni aur sab ki bhalai hai ....

    ReplyDelete
  2. nasamjhi me bahut saare ghar tut rahe hai, meri chachi bhi kuch yahi kar rahi hai............

    ReplyDelete
  3. दिवंगत आत्मा को ईश्वर शांति प्रदान करें!

    ReplyDelete
  4. आज ऐसा ही समय आगया है..समझदार बहू भाग से ही मिलते है..

    ReplyDelete
  5. दुःख देती हैं ऐसी बातें...
    :-(

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  6. आपकी यह पोस्ट आज के (३० जुलाई, २०१३) ब्लॉग बुलेटिन - एक बाज़ार लगा देखा मैंने पर प्रस्तुत की जा रही है | बधाई

    ReplyDelete
  7. संबंधों के रंग जितने सहज हों, उतने अच्छे।

    ReplyDelete
  8. सहज सम्बन्ध टिकाऊ और अच्छे लगते है

    RECENT POST: तेरी याद आ गई ...

    ReplyDelete
  9. आपसी समझ ,सम्मान और मान से सम्बन्ध मजबूत और मजबूत हों जाते हैं |
    वक्त के साथ हमे बदलाव लाने जरुरी होते हैं |
    एक शाम संगम पर {नीति कथा -डॉ अजय }

    ReplyDelete
  10. मार्मिक ...पर हमारे ही परिवेश का सच.....

    ReplyDelete
  11. हमारे जीवन का सच ,हट नही करनी चाहिए

    यहाँ भी पधारे

    http://shoryamalik.blogspot.in/2013/07/blog-post_29.html

    ReplyDelete
  12. बहुत ही मार्मिक बात... अंदर तक दुख देती है..

    ReplyDelete
  13. समय के साथ बदलना जरूरी है ... पर कई बार ये बहुत मुश्किल हो जाता है ...

    ReplyDelete
  14. aapsi samjh jaruri hai nahi to rishte riste rahte hain ....

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... ये तो आप ही बताएगें .... !!
आपकी आलोचना की जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!