Pages

देवनागरी में लिखें

Saturday, 26 July 2014

बात है



मिट्टी की काया
ढूँढें संघर्ष-वर्षा 
ओक में ओज। 



मिट्टी का दीया
जग को ओज दिया
ओक  आग से। 




कल की बात है 
====
आलता लगाती सांझ तरुणी निकली
झिर्री से झाँकती तारों की टोली निकली
सूर्य सूर्यमुखी अपनी दिशा बदलते रहे 
रात रानी नशीली खिलखिलाती निकली 

====


14 comments:

  1. सुन्दर रचनाओं का गुच्छ

    ReplyDelete
  2. बहुत ख़ूबसूरत प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  3. फेसबुक पर पह्ले ही पढने को मिल जाता है!! फिर भी दुबारा पढना और भी आनन्द प्रदान करता है!!

    ReplyDelete
  4. वाह ... बहुत ही खूबसूरत ...

    ReplyDelete
  5. सुंदर प्रस्तुति , आप की ये रचना चर्चामंच के लिए चुनी गई है , सोमवार दिनांक - 28 . 7 . 2014 को आपकी रचना का लिंक चर्चामंच पर होगा , कृपया पधारें धन्यवाद !

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्नेहाशिष ..... शुक्रिया .....

      Delete
  6. बहुत सुंदर रचना...

    ReplyDelete
  7. खुबसूरत अभिवयक्ति.....

    ReplyDelete
  8. खुबसूरत अभिवयक्ति..... कृपया हमारे ब्लॉग पर भी पधारें धन्यवाद !

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... ये तो आप ही बताएगें .... !!
आपकी आलोचना की जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!