Pages

देवनागरी में लिखें

Saturday, 19 July 2014

हाइकु




गाये कजरी 
मेघ से ले कजरी
भू बाला झूमे। 

===

भू को बिखेरे
अति व अनावृष्टि 
बिरुए रो ले। 

===

भू मनुहार 
प्रवाह तो निर्वाह
घटा छकाये 






घन दे धोखा 
ना क्षति निवारण
है जीव भूखा। 

===

ध्यान से सूंघो / सृष्टि नाशक / विध्वंसकारी 

बारूद गंध फैली 
श्याम घन से।




धरा संवरी
मेघों सी काली साड़ी
बूंदों के बूटे।

बूंदों के बूटे
भुट्टे की धानी साड़ी
भू सज बैठी।


14 comments:

  1. सुंदर प्रस्तुति...
    दिनांक 21/07/2014 की नयी पुरानी हलचल पर आप की रचना भी लिंक की गयी है...
    हलचल में आप भी सादर आमंत्रित है...
    हलचल में शामिल की गयी सभी रचनाओं पर अपनी प्रतिकृयाएं दें...
    सादर...
    कुलदीप ठाकुर

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्नेहाशीष ..... आभारी हूँ ..... बहुत बहुत धन्यवाद आपका
      शुभ संध्या

      Delete
  2. लाजवाब हैं दोनों हाइकू ...

    ReplyDelete
  3. सुंदर प्रस्तुति , आप की ये रचना चर्चामंच के लिए चुनी गई है , सोमवार दिनांक - 21 . 7 . 2014 को आपकी रचना का लिंक चर्चामंच पर होगा , कृपया पधारें धन्यवाद !

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुभ संध्या
      स्नेहाशीष .... शुक्रिया .... आभारी हूँ आपकी

      Delete
  4. सुंदर हाइकू

    ReplyDelete
  5. सुंदर प्रस्तुति...लाजवाब हाइकू ! :)

    ReplyDelete
  6. बढ़िया हाइकु |

    ReplyDelete
  7. क्या बात है..बहुत खूब....लाजवाब हाइकू ! :)

    ReplyDelete
  8. अभी हाल में ही लौट कर आये हैं मानसून में बरसो बाद भींग के. और फिर आपके हाइकु का यह झोका अच्छा लगा.

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... ये तो आप ही बताएगें .... !!
आपकी आलोचना की जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!