Pages

देवनागरी में लिखें

Tuesday, 28 August 2012

# चंदा-मामा दूर के ,पुआ पकावे गुड के #

# चंदा-मामा दूर के ,पुआ पकावे गुड के #


















चाँद        माँ मुझे उसे दिखा चुप कराती-सुलाती थी !
चाँद        जब मैं बड़ी हुई तो उसकी चाँदनी मुझे बहुत अच्छी लगने लगी थी !
चाँद        मैं अपने बेटे को उसे दिखा चुप कराती-सुलाती थी !
चाँद        वैज्ञानिको के लिए कौतुहल-खोज का विषय-वस्तु रहा है ये !
चाँद       हसीनाओं के दिल में ख़ुद के चाँद होने का गुमान होता है !
चाँद       हमेशा से ये गीत-संगीत-कविता के रचियेता का प्रिय माध्यम रहा है !
चाँद       प्रीत में प्रीतम अपनी प्रीती की तुलना उससे ही तो करता है !
चाँद       कुछ के सर पर भी बिराजमान होता है ,तो पैसे वाला समझा जाता है !
चाँद       देख-देख उसे चातक-चकोर को मदमस्त होते भी सुना है !
चाँद       समंदर के ज्वार-भाटे को उसे देख उफनते तो देखा भी है !
चाँद      अनुभव करना है ,चांदनी रातों में पैर के नस क्यों ज्यादा मोटे हो जाते हैं ?

जैसे नीले-नीले सागर का नीर या नीले-नीले अम्बर के आंसू भरे हों !
जब इन पैरो को थमने-थकने की इजाजत नहीं थी उस समय ....
तुम्हारे नज़रे इनायत होना और ये बेहतरीन तौहफा मिलना (^_^)
शुक्रगुज़ार हूँ ....
तुम यूँही कृपानिधान - विघ्नहरता तो नहीं कहलाये ....
अरे तुम्हे नहीं पता , तुम तो हर जगह व्याप्त हो ....
अभी तो इन अंगुली में भी होगे ही !
या ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
तप्त,दग्ध कंदराओं में ध्यानमग्न एकांतवास लिए
अश्रुओं से नम आँखों से देख नहीं पाए ....
एक ही पैर पर ... अरे नहीं दुसरे के लिए कुछ और सोचा होगा .... (*_*)
व्हील - चेयर की व्यवस्था करनी होगी क्या ?(^_^)



भारतीय अधिकारियों की चाँद की सतह पर नज़र

बाएं पैर में कई दिनों से दर्द था .... मैं समझ रही थी कि काम ज्यादा करने से हो रहा है  ....
कल सब्जी-भाजी-दूध लेकर सड़क पार कर रही थी ,तो एक मोटर-साईकिल आकर पैर पर ठोकर मार दिया ....
Dr. से दिखलाना पड़ा .... !
उन्होंने ने कहा पैर में फाइलेरिया भी है .... (*_*)  
मुझे किसी वजह से दर्द ज्यादा हो तो मैं बोलती हूँ , गुदगुदी कर रहा है (^_^)
तो
कल से गुदगुदी कुछ ज्यादा हो रहा है (*_*)   






    

25 comments:

  1. सुनने में आया है ,कि पूर्णिमा के समय फायेलेरिया ज्यादा बढ़ जाता है ,
    या
    अंधविश्वास है ये ?

    ReplyDelete
  2. आप के ब्लॉग पर अधिकतर नई ,अलग तरह की रचना पढने को मिलती है मैंम , बढ़िया है |

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन रचना ....

    ReplyDelete
  4. चाँद पर लिखी इतनी सारी बातें nostalgic कर गयीं.. आपको चोट आई पैर में, ये जानकार दुःख भी हुआ... फैलेरिया का चाँद से सम्बन्ध है, ये मैंने भी सुना है.. कोई वैज्ञानिक पुष्टि नहीं है लेकिन.
    आप जल्द ही स्वस्थ हों.. इसी की कामना करता हूँ..

    ReplyDelete
  5. पूरे चाँद के समय कोई भी तकलीफ बढ़ जाती है ... वजह वैज्ञानिक ही होगा , पर है

    ReplyDelete
  6. काम के साथ-साथ अपना भी ध्यान रखना है तुम्हे...जन्म दिन की हार्दिक शुभकामनाएं..तुम जीयो हजारो साल ,साल के दिन हो पचास हजार...

    ReplyDelete
  7. chand ke bare me kuchh viswash , kuchh andh viswash hai,ho sakta hai kuch sahi ho, par aapki rachna achchhi hai.

    mere blog ko bhi dekhe .Link-http://kpk-vichar.blogspot.in

    ReplyDelete
  8. मैंने तो सुना है अमावस्या पर ज्यादा तकलीफ बढ़ती है :):) पता नहीं चाँद भी क्या क्या गुल खिलाता है । जन्मदिन की बधाई

    ReplyDelete
  9. जन्मदिन मुबारक आंटी!


    सादर

    ReplyDelete
  10. सुना है कि इस विश्वास के साथ वैज्ञानिक तथ्य भी जुड़ा है..... जो भी हो, चाँद की शीतल चाँदनी हर घाव पे मरहम का काम करती है ये भी तो एक विश्वास ही है ना... तो फिर इसी विश्वास के सहारे ये दुआ है कि ये चाँद अपनी चाँदनी के साये तले सारी तकलीफों की पोटली को समेट ले जाये और खिलती मुस्कुराती नयी आशाओं नयी उम्मीदों से सजी चमकती सौगात दे जाये...आमीन !!!

    ReplyDelete
  11. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 30-08 -2012 को यहाँ भी है

    .... आज की नयी पुरानी हलचल में ....देख रहा था व्यग्र प्रवाह .

    ReplyDelete
  12. बहु -अर्थक चाँद जिन खोजा तिन पाइयां ..लेकिन परिस्थितियाँ हैं बड़ी प्रतिकूल बेहद उल्कापात होता है चाँद पर जैसे यहाँ औरत पर होता बड़ी विषम परिस्थितियाँ हैं चाँद पर जैसे यहाँ औरत के लिए हैं ,क्रेटर ही क्रेटर हैं ऊबड़ खाबड़ है चाँद औरत की ज़िन्दगी सा वीरान .......गर्मी सर्दी का अंतर है बहुत तापमान में ,जीवन मुश्किल है कोई मंडलवायु नहीं है चाँद पर /......लोग फिर भी बस्तियां बनायेंगे चाँद पर ....
    बढ़िया प्रस्तुति है कृपया यहाँ भी पधारे -
    ram ram bhai

    ReplyDelete
  13. जन्म दिन की हार्दिक शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  14. aapko chot lagee jaan kar dukh hua .jaldi theek ho jaiye ,aapke janam din par "belated" happy birthday :)

    ReplyDelete
  15. ye tho pata nahi....par haan chand par itni sari batein padh kar sacchi maza aya....

    ReplyDelete
  16. Belated Happy Birthday...chaand ke itane roop achhe lage...take care of your health..

    ReplyDelete
  17. यह संवाद तो अद्भुत रहा.

    सुंदर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  18. वाह दी चाँद के अपने ही नुक्से अपने ही स्वांग हैं ..... बिलकुल अलग रचना ....(*_*)

    ReplyDelete
  19. बेहतरीन रचना ..!

    ReplyDelete
  20. चाँद से इतनी बातें ...कैसी कैसी बातें !
    पैर में दर्द कैसा है अब ?

    ReplyDelete
  21. विभा जी समझी नहीं ....
    फायेलेरिया के बारे मुझे जानकारी नहीं .....

    @कल से गुदगुदी कुछ ज्यादा हो रहा है (*_*)

    ये औरतें भी न जाने किस मिट्टी की बनी होतीं हैं ...

    रब्ब आपको तंदरुस्ती दे .....!!

    ReplyDelete
  22. आपके स्‍वास्‍थ्‍य के लिए शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  23. बेहतरीन रचना। आपका मेरे नए पोस्ट दिन 'सुखी होगा' पर इंतजार रहेगा। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  24. Nice Article sir, Keep Going on... I am really impressed by read this. Thanks for sharing with us.. Happy Independence Day 2015, Latest Government Jobs.

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... ये तो आप ही बताएगें .... !!
आपकी आलोचना की जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!