Thursday, 1 December 2016

काला धन


 
काला धन के नाम पर अत्याचार


तंज़
स्वाश्रयी
मरी मीन
तिज़ोरी कैद
कत्ल शिष्यकारु
काला धन रंगीन 【01】
<><>
लो
चर्चा
बयानी
अम्र कौमी
नंगा कहर
दाग बेदखल
काला धन महर 【02】

3 comments:

  1. चरण स्पर्श दीदी
    धुल कर सफेद हो गया
    अब अब धीरे-धीरे फिर
    काला हो रहा है
    100-100 की शक्ल में
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. ढ़ेरों आशीष व असीम शुभकामनाओं संग शुभ दिवस छोटी बहना
      2000 के नोट नकली निकले
      नोट बदलने से देश बदल जाता तो नोट बदलने की आज जरूरत नहीं होती

      Delete

आपको कैसा लगा ... यह तो आप ही बताएगें .... !!
आपके आलोचना की बेहद जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!

नई भोर

प्रदर्शी का जन सैलाब उमड़ता देखकर और विक्री से उफनती तिजोरी से आयोजनकर्ता बेहद खुश थे। जब बेहद आनन्दित क्षण सम्भाला नहीं गया तो उन्होंने ...