Pages

देवनागरी में लिखें

Wednesday, 11 June 2014

आओ ना ..... आओ ना मॉनसून ....










आओ ना ..... आओ ना मॉनसून ....

वसंत के मोहक
वातावरण में ,
धरती हंसती ,
खेलती जवान होती ,
ग्रीष्म की आहट के
साथ-साथ धरा का
यौवन तपना शुरू हुआ ,
जेठ का महीना
जलाता-तड़पाता
उर्वर एवं
उपजाऊ बना जाता ,
बादल आषाढ़ का
उमड़ता - घुमड़ता
प्यार जता जाता ,
प्रकृति के सारे
बंधनों को तोड़ता ,
पृथ्वी को सुहागन
बना जाता ....
नए - नए
कोपलों का
इन्तजार होता ....
मॉनसून जब
धरा का 
आलिंगन
करने आता ....
आओ ना मॉनसून 
======






11 comments:

  1. सच में अब तो मानसून को आपका कहना मानना ही चाहिए...बहुत परेशान कर दिया गर्मी ने...

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 12-06-2014 को चर्चा मंच पर चर्चा - 1641 में दिया गया है
    आभार

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया और आभार आपका

      Delete
  3. उम्मीद है आपकी पुकार जल्दी ही सुनाई दे.

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  5. nhi sun raha abhi bhi mansoon

    ReplyDelete
  6. अब तो मानसून को आना ही होगा..नहीं तो खैर नही.. और साथ ही साथ बहुत ही बधाई

    ReplyDelete
  7. सुन्दर चित्रण...

    ReplyDelete
  8. अति सुन्दर..... बधाई आपको

    ReplyDelete
  9. वाह ! बेहद सुंदर अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... ये तो आप ही बताएगें .... !!
आपकी आलोचना की जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!