Pages

देवनागरी में लिखें

Monday, 9 June 2014

हाइकु


1
तड़ तड़ाक
बची नहीं गरिमा
चोटिल आत्मा ।

=====

2
तड़ ताड़क
सहमा बचपन
देख माँ गाल ।

=====

3
तड़ तड़ाक
रिश्ता नाजुक टूटा
काँच सा कच्चा ।

=====

4
हर्ष अपार
घन लेकर आये
फुही बहार ।

=====

5
छन्न संगीत
तपान्त करे वर्षा 
गर्म तवे सी 

=====

6
फुही झंकार 
लगे झांझर झन 
किसान झूमे ।

=====

7
बीज लड़ता 
भूमि-गर्भ अंधेरा
वल्लरी देता ।

=====

8
उगाये मोती 
सुख नींद वो सोते
खेत जो जोती ।

=====

9
बिखरे फुही
जगत खिल उठा





बने फुलौरी ।

8 comments:

  1. बहुत सुन्दर हाइकू .....

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद और आभार

      Delete
  2. Replies
    1. धन्यवाद और आभार

      Delete
  3. उगाये मोती
    सुख नींद वो सोते
    खेत जो जोती ।
    ...सुन्दर हाइकू बस पढ़ता गया ...
    बहुत अच्छा लगा

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर हाइकु.

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर हाइकु

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... ये तो आप ही बताएगें .... !!
आपकी आलोचना की जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!