Pages

देवनागरी में लिखें

Friday, 13 June 2014

पापा बस पापा




क्या बेटू तुम्हें लगता था पापा तुम्हें कम प्यार करते हैं 

स्पीचलेस हुये ना 


कडक छवि
जीवन ही सुधारे
भाव पिता के । 




मिली है थाती
सोचो जाँचो समझों
पिता से हमें । 

=======

10 comments:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन फादर्स डे मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर चित्र और भाव ....

    ReplyDelete
  3. सुन्दर भावो के साथ सुन्दर चित्र..

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर दी और आपका चित्र तो बहुत ही बढ़िया लगा |

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर ...........नमस्ते दी

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर भाव और चित्र के साथ अभिव्यक्ति .... !!

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... ये तो आप ही बताएगें .... !!
आपकी आलोचना की जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!