Pages

देवनागरी में लिखें

Thursday, 22 August 2013

कुछ भी तो नहीं ...



सुत को सुता 
बांधे एक सूत से 
सुलग्न जो था 
माँ हो गई हर्षित 
छलछलाई आँखें
~~
ये मेरा सपना था   
~~
जब चारो ओर रक्षा-बंधन का शोर था 
उसी दिन एक तेरह साल की बच्ची 
अपने दो छोटे-छोटे भाइयों के साथ माँ को भी मुखाग्नि दी 
उस पर क्या गुजरा होगा ....
शब्दों में ब्यान करना नामुमकिन है .... 
बहुत सालो के बाद इस बार मैं किसी भाई को राखी न बांध पाई ....
लेकिन उस बच्ची के दुख को समझने का दावा नहीं कर सकती ...
20 अगस्त को राखी के दिन ही मेरी माँ की पुण्य-तिथि थी 
मन विचलित था 
लेकिन उस बच्ची के बारे में सोच कर देखि 
मेरा दुख उसकी तुलना में क्या था 
कुछ भी तो नहीं 



अपने अश्रु रोके हुये गगन को रोते देख रही थी 




तभी मेरा साथ देने आए 



एक अपने साथी से विछुड़ा अकेला भी था .....
दूसरे के आँसू अनुभव कर देखिये अपने कम लगेंगे .....




20 comments:

  1. ओह!
    आँखें भी बरसती हैं, अम्बर भी बरसता है... दुःख भीतर तक पैठता चला जाता है!

    अपना दुःख सचमुच औरों के दुःख के समक्ष बौना प्रतीत होता है...
    वो गीत है न, दुनिया में कितना गम है, मेरा गम कितना कम है...

    ReplyDelete
  2. बहुत मार्मिक !!

    ReplyDelete
  3. बहुत ही प्यारी और भावो को संजोये रचना......

    ReplyDelete
  4. बहुत मर्मस्पर्शी....

    ReplyDelete
  5. बादलों की तरह आँखें भी बरस गयीं दी....

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  6. सही कहीं दूसरों के सामने अपना दुःख कम महसूस होता है.. मर्म स्पर्सी रचना .....

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - शुक्रवार, 23/08/2013 को
    जनभाषा हिंदी बने.- हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः4 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें, सादर .... Darshan jangra


    ReplyDelete
  8. सच में मन की गहराई तक छू गयी

    ReplyDelete
  9. बहुत ही प्यारी और भावो को संजोये रचना.....

    ReplyDelete
  10. मर्म को छू गयी यह पोस्ट

    ReplyDelete
  11. काफी दुख हुआ बच्ची के बारे में जानकार.

    ReplyDelete
  12. kya kahu didi ....aaj ye lines yaad aa gayi....."Duniya mey kitna gum hai mera gum kitna kam hai "

    ReplyDelete
  13. सुंदर रचना...
    आप की ये रचना शनीवार यानी 24/08/2013 के ब्लौग प्रसारण में मेरा पहला प्रसारण पर लिंक की गयी है...
    इस संदर्व में आप के सुझावों का स्वागत है।

    ReplyDelete
  14. दिल भर आया विभा जी। …इतनी छोटी सी उम्र में इतना बड़ा दुःख कैसे झेलेगी वो ?

    ReplyDelete
  15. मेरा दुख उसकी तुलना में क्या था
    कुछ भी तो नहीं
    बहुत मर्मस्पर्शी... रचना ताई जी

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... ये तो आप ही बताएगें .... !!
आपकी आलोचना की जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!