Pages

देवनागरी में लिखें

Saturday, 24 August 2013

ये सब समझते हैं




अगर सब सच में परेशान हैं
बदलाव लाना चाहते हैं 
तो 
सामूहिक वहिष्कार करें ना
हम इस बार के चुनाव का 

केवल कागज काला करने से कुछ नहीं होगा 
ये सब समझते हैं ....

चुनाव में आपके मतदान का कोई महत्व नहीं 
जिसकी लाठी उसकी भैंस ही होती 
वही गूंगा-बहरा कठपुतली मिलेगा 
जिसकी डोर एक विदेशी के हाथ में ही होगा ......
ये सब समझते हैं ....

बोलना -लिखना आसान होता है .............
शहीद होना .... कुर्बानी देना ............ ??
कौन बोले 
आ बैल मुझे मार .....
ये सब समझते हैं .....

अगर चुनाव कराना ही है
तो पहले सही आदमी तो चुन लें
न वो पहले से नेता हो और न नेता पुत्र हो
ये सब समझते हैं ....

ऐसा नवयुवक हो जिसे सब
(सब का मतलब सब) पसंद करते हों
चुनाव आयोग ऐसे आदमी को ही चुनाव लड़ने की अनुमति दे
ये सब समझते हैं ....

अभी जो खड़े होते हैं
सांपनाथ हैं या नागनाथ हैं
हम जिसे चुनते हैं या जिसे नहीं चुनते हैं
सरकार बनाने के लिए एक जुट हो ही जाते हैं
ये सब समझते हैं ....

ऐसा नियम हो कि चुनाव परिणाम आने के बाद वे एक नहीं होंगे ....
विवश करें ना चुनाव आयोग को वो कुछ कड़े नियम बनाये ....
क्या आप सही समझते हैं ??

~~

25 comments:

  1. सच कहा है आप ने!

    ReplyDelete
  2. शुभ प्रभात दीदी
    करे बहिष्कार गर चुनाव का
    तो वही फिर से काबिज कुर्सी पर
    गर करा दें वो व्होट जो
    जो कभी डाले ही नही जाते
    तो ही सही व्यक्ति आ पाएगा
    सादर

    ReplyDelete
  3. न जाने किस ओर चला यह देश हमारा।

    ReplyDelete
  4. मतदान का बहिष्कार करने की आपकी सलाह से पूरी तरह असहमत हूँ आंटी। आप से इस तरह की उम्मीद नहीं थी।
    मेरे विचार से मतदान को प्रत्येक नागरिक का अनिवार्य राष्ट्रीय कर्तव्य बना देना चाहिये। तभी तस्वीर बदलेगी।


    सादर

    ReplyDelete
  5. अभी जो खड़े होते हैं
    सांपनाथ हैं या नागनाथ

    सच ही है!

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - सोमवार- 26/08/2013 को
    हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः6 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें, सादर .... Darshan jangra

    ReplyDelete
  7. आपकी इस प्रस्तुति की चर्चा कल सोमवार [26.08.2013]
    चर्चामंच 1349 पर
    कृपया पधार कर अनुग्रहित करें
    सादर
    सरिता भाटिया

    ReplyDelete
  8. घुटन भरा माहौल हो चला है..... सटीक पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  9. सच कहा है आप ने!

    ReplyDelete
  10. कथन सार्थक एवं सामयिक है विचार अलग हो सकते हैं .

    ReplyDelete
  11. विभारानी जी आप सही सोच रही है , पर यह बताइए चुनाव आयोग के आदेश, सर्वोच्च न्यायालय के आदेशों को जब अध्यादेश या कानून बनाकर निरस्त किया जाता है तब चुनाव आयोग या न्यायालय क्या कर सकता है ? इन्हें तो कानून के दायरे में काम करना है . सुधरने का एक मात्र रास्ता केवल असहयोग आन्दोलन .चुनाव का पूर्ण वर्जन. लेकिन नेताओं के जिन चमचों और रिश्तेदारो को फ़ायदा होने वाले हैं वे तो वोट देंगे और विपक्ष में कोई न होने से वे जित जायेंगे . ऐसा होते भी आया है.इसीलिए जरुरत है की अन्ना हजारे के साथ सहयोग किया जाय और चुनाव का पूर्ण बहिष्कार करें

    ReplyDelete
  12. एक दम सही कहा..सहमत हूँ

    ReplyDelete
  13. चुनाव के बाद का समझोता उचित नही है,,,,

    RECENT POST : पाँच( दोहे )

    ReplyDelete
  14. aapke vichar bahut hi satik hai lekin hamari sonch ham tak hi simit rah jaati hai, kash amal hota.........

    ReplyDelete
  15. एक भारतीय नागरिक होने के कारण 'चुनाव बहिष्कार' की अपील को असंवैधानिक एवं गैर कानूनी तथा कर्तव्य से पीठ मोड कर भागने का कायराना कृत्य समझता हूँ। जिन लोगों ने मात्र चापलूसी हेतु सहमति व्यक्त की है उनकी योग्यता पर तरस आता है। जो महाभ्रष्ट और कारपोरेट भ्रष्टों के संरक्षक हज़ारे का समर्थन कर रहे हैं वे जान बूझ कर देश को अमेरिका के हाथों गिरवी रखने की साजिश मे शामिल लगते हैं।
    एक जागरूक नागरिक का कर्तव्य है कि वह चाहे जिसे 'मत' दे परंतु अपने कर्तव्य का पालन अवश्य ही करे।

    ReplyDelete
  16. देश के हालात तो बहुत ख़राब है ...कुछ सही दिशा में सोचना होगा ...

    ReplyDelete
  17. ik.ik shabd sahi kaha kuchh bhi nkaarne jaisa nahi ......

    ReplyDelete
  18. केवल वोट न डालने से समस्या का समाधान नहीं होने वाला...आवश्यकता है चुनाव प्रणाली में आमूल परिवर्तन की...पर यह करना कौन सी पार्टी चाहेगी?
    कोई आशा की किरण नज़र नहीं आती इस अँधेरे में...

    ReplyDelete

  19. कृष्ण ने भी अपने समय मे अत्याचार और अनाचार का प्रतिकार करके जनता को सुशासन उपलब्ध करवाया था। वह एक सफल राजनेता थे। लेकिन आज राम और कृष्ण के भक्त कहलाने वाले लोग राजनीति की कटु निंदा कर रहे हैं,राजनीतिज्ञों की आलोचना कर रहे हैं। वे राम और कृष्ण को अवतारी भगवान घोषित करके उनका अनुसरण करने से जनता को रोक रहे हैं। अधर्म का जय - जयकारा

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर प्रस्तुति। ।

    ReplyDelete
  21. अगर चुनाव कराना ही है
    तो पहले सही आदमी तो चुन लें
    न वो पहले से नेता हो और न नेता पुत्र हो
    ये सब समझते हैं ....
    बिलकुल सही कहा है .वर्तमान राजनीतिक परिदृश्य पर प्रहार .

    ReplyDelete
  22. kas bharat ki janata ki samajh vikasit hoti to aj ye din na dekhana padata .....apki rachana aj ki samajik vyavsatha pr karara chot karati hai .....lajbab rachana ke liye badhai .....ye rachana bhi ab sb samjahte hain ........

    ReplyDelete
  23. आप सही कह रही हैं पर व्यावहारिक नही ।

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... ये तो आप ही बताएगें .... !!
आपकी आलोचना की जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!