Pages

देवनागरी में लिखें

Wednesday, 13 August 2014

ताँका





1

भेंट है मिला 
बड़े संघर्षों बाद
स्वतंत्र देश 
प्रजातांत्रिक वेश
विश्व अग्रणी केश

2

गुणन योग्य 
है मधुमय तोष 
देव की आस
माँ के गोद में खेलें
हिन्द देश में होती

3

देव का भेंट 
प्रकृति करे प्यार 
रवि रश्मियाँ
सर्व प्रथम आती 
हिन्द धरा चूमती

4

दुष्टान्न त्यागे 
हिन्द मिट्टी का नशा 
दुश्मनी भूले 
वीर होते हैं यहाँ
बदले विश्व दिशा

5

उत्कर्षों छू ले 
कर्म व धर्म जीते 
भू को माने माँ 
अतुल समन्वय 
ये है हिन्द गौरव

====

1
हिम मुकुट
सिंधु-त्रि पाँव धोये
हिन्द है न्यारा।

2
टुकडो में थे 
गुलामी का कारण
टुकड़े होंगे।

3
तूफां को तोडा
वीर को मिले रोड़ा
रुख है मोड़ा ।


श्रद्धा नमन
चहेती दुर्गा भाभी
वीरांगना थी।

5
क्रांति' व्याख्या 
निश्छलता शैतानी
दृढ़ निश्चयी। 

6
आजादी नशा
खून के साथ दौड़े
बचपन से।

7
पाखंड मिटे 
छूत अछूत मिटे
दलित सटे। 

8
स्त्री की अस्मिता 
खद्दर की गरिमा
बोली से नोचें

और 

झेले जो झोके 
नेता बैन नुकीले 
स्वसा रो रही।

9
हाथ बढ़ायें 
गरीबी व अशिक्षा 
मिल मिटायें ।


=====

17 comments:

  1. स्वतन्त्रता दिवस पर सुंदर रचना..

    ReplyDelete
  2. वाह ! देश प्रेम की अलख जगाते भावपूर्ण, ओजपूर्ण, सुन्दर, सार्थक, प्रेरक तांका एवं हाइकू ! स्वाधीनता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं एवं बधाई !

    ReplyDelete
  3. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (15.08.2014) को "विजयी विश्वतिरंगा प्यारा " (चर्चा अंक-1706)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, चर्चा मंच पर आपका स्वागत है, धन्यबाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जय हिन्द
      आभारी हूँ ..... बहुत बहुत धन्यवाद आपका

      Delete
  4. बहुत सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति...जय हिन्द

    ReplyDelete
  5. आपकी इस रचना का लिंक दिनांकः 15 . 8 . 2014 दिन शुक्रवार को I.A.S.I.H पोस्ट्स न्यूज़ पर दिया गया है , कृपया पधारें धन्यवाद !

    ReplyDelete
    Replies
    1. जय हिन्द
      आभारी हूँ .... बहुत बहुत धन्यवाद आपका

      Delete
  6. 1
    हिम मुकुट
    सिंधु-त्रि पाँव धोये
    हिन्द है न्यारा।.........जय हिन्द

    ReplyDelete
  7. आजादी नशा
    खून के साथ दौड़े
    बचपन से।

    सुंदर क्षणिकाएं।।।

    ReplyDelete
  8. उत्कर्षों छू ले
    कर्म व धर्म जीते
    भू को माने माँ
    अतुल समन्वय
    ये है हिन्द गौरव

    खुबसुरत दी सभी :) :)

    ReplyDelete
  9. सुंदर गरिमामयी रचना

    ReplyDelete
  10. स्वतन्त्रता दिवस पर सुन्दर सार्थक प्रस्तुति
    स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... ये तो आप ही बताएगें .... !!
आपकी आलोचना की जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!