Pages

देवनागरी में लिखें

Saturday, 23 August 2014

घाती है भादो






1
बहे मवाद 
वीरुध हीन भूमि 
डाका के बाद ।

2
सूखे ना स्वेद
अपहृत बरखा 
रोता भदई।

3
आँख में आंसू 
रात में ज्यूँ जुगनू
दोनों में ज्योति ।

पल है खग
सुख दुख के डैने
उड़ा के छिपा। 

5
देख भू चौंकी 
खाली बूँदें-बुगची
घाती है भादो। 

6
घाती सावन 
घाऊघप बादल
रोते भू तारे ।

7
दुखी भू अम्ब
हवा लपके मेघ
हो जैसे गेंद । 

8
छोड़ के पर्दा 
नभ को छूने चली
उड़ा के गर्दा।

9
ज्योति की संगी 
लम्बी कभी वो छोटी
तम में गुम।

10
उषा मुस्काई 
ज्योति ले लहराई
भू हरियाई।

11
देती है दंश 
कई चीर लगाती
कील उचकी।



====

18 comments:

  1. बहुत सुंदर प्रस्तुति.
    इस पोस्ट की चर्चा, रविवार, दिनांक :- 24/08/2014 को "कुज यादां मेरियां सी" :चर्चा मंच :चर्चा अंक:1715 पर.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभारी हूँ .... बहुत बहुत धन्यवाद आपका ...

      Delete
  2. सुन्दर हाइकू ,सुन्दर हाइगा !
    मैं
    Happy Birth Day "Taaru "

    ReplyDelete
  3. सुंदर प्रस्तुति...
    दिनांक 25/08/2014 की नयी पुरानी हलचल पर आप की रचना भी लिंक की गयी है...
    हलचल में आप भी सादर आमंत्रित है...
    हलचल में शामिल की गयी सभी रचनाओं पर अपनी प्रतिकृयाएं दें...
    सादर...
    कुलदीप ठाकुर

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्नेहाशीष बेटे जी .... आभारी हूँ ...
      बहुत बहुत धन्यवाद आपका ....

      Delete
  4. लघु कलेवर .,
    जैसे पुड़िया में
    होमियेपैथी की गोलियाँ १

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभारी हूँ आदरणीया .... बहुत बहुत धन्यवाद आपका _/\_

      Delete
  5. सुंदर हाइकु

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर हाईकू

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर ...

    ReplyDelete
  8. आपकी इस रचना का लिंक दिनांकः 25 . 8 . 2014 दिन सोमवार को I.A.S.I.H पोस्ट्स न्यूज़ पर दिया गया है , कृपया पधारें धन्यवाद !

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्नेहाशीष .... आभारी हूँ .... बहुत बहुत धन्यवाद आपका ...

      Delete
  9. बहुत सुंदर हायकु बन पड़े हैं ...

    ReplyDelete
  10. सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  11. सुन्दर हाइकू

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... ये तो आप ही बताएगें .... !!
आपकी आलोचना की जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!