Pages

देवनागरी में लिखें

Tuesday, 3 September 2013

प्रकृति का तौहफा ....




आभार Gobinda Agarwala का


फोटो बहुत दूर से लिया हुआ है …….  क्यूँ कि उन पक्षियों की आजादी में खलल ना पड़े …… इन पक्षी-बच्चों का जन्म ,मेरे जन्मदिन के दिन ही हुआ … निगरानी तो मैं घोसला बनाना शुरू हुआ ,तभी से कर रही थी .…जन्मदिन के दिन इनकी कोलाहल से ही आँख खुली …. प्रकृति का तौहफा पा ,मन प्रसन्न हो गया ……

IMG-20130824-WA0002.jpg

एक कहानी तितली की जुबानी ......

IMG-20130819-WA0004.jpg

बिहार की स्थिति 


IMG-20130827-WA0002.jpg


 IMG-20130827-WA0000.jpg

IMG-20130827-WA0000.jpg

मौसम मोहक हुआ


IMG-20130903-WA0000.jpg

पिया की तलाश


IMG-20130821-WA0014.jpg

हम जीवन-साथी हैं .....
 हमें संग-संग रहना है .....

IMAG0218.jpg


IMAG0193-1-1.jpg

IMAG0222.jpg

चलो एक घरौंदा बनाये .....


IMG-20130827-WA0003.jpg


IMAG0187-1-1.jpg

व्यथा के दिन
आनंदमय क्षण
जीने के पल

IMAG0189-1.jpg


कैमरा पास नहीं होने का अफसोस हो गया .... कैमरा होता तो ज़ूम कर फोटो खिचती तो साफ तस्वीर आता .... मोबाइल से दूर से फोटो खिचना पड़ा .... एक तो बारिश बहुत हो रही थी .... दूसरा मेरी खुद की लंबाई बहुत कम है .... घोसला बहुत ऊंचाई पर था .... नजदीक जाने से दिखलाई भी नहीं दे रहा था .... दूसरे चिड़िया उड़ भी जाती थी .... तो डर लगता था कि कहीं अंडा न खराब हो जाये ....

कभी रोटी बना रही होती या चाय छानना होता था .... तभी फोटो खिचने का समय भी होता था ....

कुछ अफ़सोस मुझे भी है ....



IMAG0189.jpg

IMAG0195-1.jpg

एक माँ की महिमा

IMAG0220-1.jpg







IMG-20130830-WA0004.jpg


IMAG0210-2.jpg


IMAG0195.jpg

IMAG0214-1-1.jpg

इंतज़ार कर रही ..... तुम कब आओगे ....

IMAG0224-1-1.jpg


IMAG0220-1.jpg








IMG-20130830-WA0001.jpg

कौन कहता है ....
बच्चों की जिम्मेदारी
पिता नहीं उठाते हैं .....
जिम्मेदारी हम दोनों की है ,
प्यार से निभाते हैं ....

IMAG0221-1.jpg






माँ भोजन की खोज में गई
टिक-टिक मौसी पहरेदारी में

IMAG0226-1-1.jpg


Vibha Shrivastava's photo.

उठो ना  …….  देखो मैं आ गया  ……  आप भी ऐसा ही रहे होंगे  .....

IMG-20130901-WA0001.jpg




उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़ .....   भूख - प्यास से व्याकुल .....


IMAG0229-1.jpg



IMAG0232-1-2.jpg


IMAG0231-1-1.jpg

ये चार भाई-बहन या भाई-भाई हैं ……

8 comments:

  1. सुंदर रचना...
    आप की ये रचना आने वाले शुकरवार यानी 6 सितंबर 2013 को नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही है...आप भी इस हलचल में सादर आमंत्रित है... आप इस हलचल में शामिल अन्य रचनाओं पर भी अपनी दृष्टि डालें...इस संदर्भ में आप के सुझावों का स्वागत है...



    कविता मंच[आप सब का मंच]


    हमारा अतीत [जो खो गया है उसे वापिस लाने में आप भी कुछ अवश्य लिखें]

    मन का मंथन [मेरे विचारों का दर्पण]

    ReplyDelete
  2. चित्र स्पष्ट नहीं हैं .... जन्मदिन की बधाई ॥देर ही सही ।

    ReplyDelete
  3. aahaa .man khush ho gya jabki photos clear nhi hain parantu feel kar pa rahe hain ....

    ReplyDelete
  4. चित्र दुबारा लगायें तो अच्छा रहेगा ..

    ReplyDelete
  5. पोस्ट पर चित्र स्पष्ट नहीं दिखाई दे रहे है

    ReplyDelete
  6. चित्र दिख नहीं पा रहे हैं

    ReplyDelete
  7. जिस लम्हे को मैं कैद करना चाह रही थी
    जीना चाह रही थी
    वो ज्यादा मायने रखता था
    क्षमा करें
    तस्वीर स्पष्ट नहीं है ....
    उसका कारण स्पष्ट नहीं कर पा रही हूँ
    या लोग पोस्ट पढ़ते नहीं हैं ....

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... ये तो आप ही बताएगें .... !!
आपकी आलोचना की जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!