Pages

देवनागरी में लिखें

Thursday, 5 September 2013

छिनता सुकून




आभार Rp Tripathi जी का 



अल्जाइमर के पनाह में जा रही एक माँ
तल्खी-ए-हालात का आलम खो गया सुकून  

न की ख़ुद से दोस्ती ढूंढती रही ख़ुदा
होती रही ख़ुद से जुदा खोती रही सुकुन

उसे क्या चाहिए था , कुछ ज्यादा 
लफ्ज हो प्यारे तन्हाई के लम्हात सुकून 

देखी चेहरे पे लिखी सवाली इल्ज़ाम 
खोई चैन आंखों की दिल का सुकून

कलम पकड़ी उंगुली होती है नंगी
 सोचता नंगा दिमाग छिनता सुकून 

19 comments:

  1. अल्जाइमर बहुत ही कष्टपूर्ण बीमारी ...

    ReplyDelete
  2. नमस्कार आपकी यह रचना आज शुक्रवार (06-09-2013) को निर्झर टाइम्स पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

    ReplyDelete
  3. जीने वाला ही जनता है ये पीड़ा

    ReplyDelete
  4. उसे क्या चाहिए था , कुछ ज्यादा
    लफ्ज हो प्यारे तन्हाई के लम्हात सुकून
    MAARMIK RACHNA ,, SACH HAI BIMARI BUDHAPA EKELEPAN SE JUJHTE LOGO KO KYA CHAHIYE KEVL KUCHH PAL PYAR KE :)

    ReplyDelete
  5. sach mey...jis par betti hai wahi samjhta hai....par ghar wale agar samjh kar saath dey tho baat bane...

    ReplyDelete
  6. आपके ब्लॉग को ब्लॉग एग्रीगेटर "ब्लॉग - चिठ्ठा" में शामिल किया गया है। सादर …. आभार।।

    कृपया "ब्लॉग - चिठ्ठा" के फेसबुक पेज को भी लाइक करें :- ब्लॉग - चिठ्ठा

    ReplyDelete
  7. अच्छी बात है की इस रोग के निदान के लिए किये जा रहे शोध में अच्छी प्रगति है.

    ReplyDelete
  8. तो कोई भी तकलीफदेह होती है , और फिर स्वयं को खोते देखना और भी !!

    ReplyDelete
  9. उसे क्या चाहिए था , कुछ ज्यादा
    लफ्ज हो प्यारे तन्हाई के लम्हात सुकून
    ***
    So true!

    ReplyDelete
  10. जिन स्मृतियों पर हमारा जीवन आधार टिका रहता हैं, वही खिसकने लगता है।

    ReplyDelete
  11. सुंदर प्रस्तुति,आप को गणेश चतुर्थी पर मेरी हार्दिक शुभकामनायें ,श्री गणेश भगवान से मेरी प्रार्थना है कि वे आप के सम्पुर्ण दु;खों का नाश करें,और अपनी कृपा सदा आप पर बनाये रहें...

    ReplyDelete
  12. bade hi dardmay pal hote hain ....jab apnon ke chehre se aparichay jhalakta hai ...marmsparshi prastuti vibha jee ....

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... ये तो आप ही बताएगें .... !!
आपकी आलोचना की जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!