Pages

देवनागरी में लिखें

Thursday, 5 September 2013

सच है ....

Animated clip art image of open ocean waves in the water with a glimpse of land in the distant horizon



सच है ....

कोई अपना दर्द उधेड़ता है
तो आख़िरकार
सब के हंसने का सबब बनता है .....

 नाज़ बनाए रखो
बंद मुट्ठी लाख की
खुल जाए तो खाक की .....

जो बचा न सके साख
खोखली साख की ....
जिनकी खुल गई मुट्ठी
लगा सकोगे अंदाज़ा दर्दे दिल की
छटपटाहट जीने के जुनून की ....

ज़िंदगी को बदलने में
 वक़्त नहीं लगता
पर कभी-कभी
वक़्त को बदलने में
ज़िंदगी लग जाती है ....

जो होता है अच्छे के लिए होता है ....

13 comments:

  1. Nice www.hinditechtrick.blogspot.com

    ReplyDelete
  2. पीड़ा अपनी मन में पोषित,
    दुख संवेग न जाने कोय।

    ReplyDelete
  3. ज़िंदगी को बदलने में
    वक़्त नहीं लगता
    पर कभी-कभी
    वक़्त को बदलने में
    ज़िंदगी लग जाती है ....

    शानदार।।।

    ReplyDelete
  4. नाज़ बनाए रखो
    बंद मुट्ठी लाख की
    खुल जाए तो खाक की .....

    सहजता से कितनी गहरी बात कह दी आपने
    अदभुत-----

    सादर
    "ज्योति"

    ReplyDelete
  5. सच है .......जो होता है अच्छे के लिए होता है .

    ReplyDelete
  6. ज़िंदगी को बदलने में
    वक़्त नहीं लगता
    पर कभी-कभी
    वक़्त को बदलने में
    ज़िंदगी लग जाती है ....bahut badi aur gahan baaten wayakt kar diya vibha jee ..in panktiyon ke madhayam se ....

    ReplyDelete
  7. आपने लिखा....हमने पढ़ा....
    और लोग भी पढ़ें; ...इसलिए शनिवार 07/09/2013 को
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    पर लिंक की जाएगी.... आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है ..........धन्यवाद!

    ReplyDelete
  8. भावो का सुन्दर समायोजन......

    ReplyDelete
  9. सुंदर रचना...
    आप की ये रचना आने वाले शनीवार यानी 7 सितंबर 2013 को ब्लौग प्रसारण पर लिंक की जा रही है...आप भी इस हलचल में सादर आमंत्रित है... आप इस हलचल में शामिल अन्य रचनाओं पर भी अपनी दृष्टि डालें...इस संदर्भ में आप के सुझावों का स्वागत है...



    कविता मंच[आप सब का मंच]


    हमारा अतीत [जो खो गया है उसे वापिस लाने में आप भी कुछ अवश्य लिखें]

    मन का मंथन [मेरे विचारों का दर्पण]

    ReplyDelete
  10. शानदार।।।भावो का सुन्दर समायोजन....

    ReplyDelete
  11. ज़िंदगी को बदलने में
    वक़्त नहीं लगता
    पर कभी-कभी
    वक़्त को बदलने में
    ज़िंदगी लग जाती है ....


    बहुत अच्छी लगी ये पंक्तियाँ.

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर प्रस्तुति। ।

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... ये तो आप ही बताएगें .... !!
आपकी आलोचना की जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!