Pages

देवनागरी में लिखें

Wednesday, 16 October 2013

कल्पवास मेला






सिमरिया गंगा तट पर लगने वाला 
विश्व प्रसिद्द राजकीय कल्पवास मेला आज से शुरू हुआ ....
धार्मिक कुंभ मेले को दुनिया में आस्था के सबसे बड़े आयोजन के रूप में देखा जाता है ....
अगर देखें तो वैदिक साहित्य में देश में 
चार स्थानों पर कुंभ के आयोजन की बात कही गई है ....
प्रयाग (इलाहाबाद) , हरिद्वार , उज्‍जैन और नासिक . 
यह तो सबको पता है कि इन स्थानों पर नियमित अंतराल में कुंभ का आयोजन होता है ..... 
एक अन्य तर्क यह भी दिया जाता है कि 
वैदिक काल में देश के 12 स्थानों पर कुंभ लगता था .....
लेकिन अब इनमें से 4 स्थानों में ही कुंभ आयोजित हो रहे हैं .... 
इसी तरह बिहार के बेगूसराय जिले के सिमरिया में आयोजित अर्द्ध कुंभ को ,
लुप्त हो चुके 8 कुंभ पर्वों को फिर से पुनर्स्थापित करने की शुरुआत बताया जा रहा है ...
''किसी भी धार्मिक ग्रंथ में इस बात का उल्लेख नहीं है कि
 कुंभ मेला सिमरिया घाट पर हुआ करता था ''….
 यह मेला आज से शुरू होकर १७ नवम्बर तक चलेगा .…
१८ अक्तूबर को ध्वजारोहण के साथ कार्तिक स्नान आरम्भ हो जाएगा ....
२३ अक्तूबर को प्रथम परिक्रमा सुबह आठ  बजे आयोजित है …. 
द्वितीय परिक्रमा १ नवम्बर और तृतीय परिक्रमा १३ नवम्बर को आयोजित किया जाएगा ……
२२ अक्टूबर से ही सिद्धाश्रम में पार्थिव पूजन कार्य क्रम भी शुरू किया जाएगा ....  
१ नवम्बर को धन्वन्तरि जयंती .… २ नवम्बर को हनुमंत जयंती ....
३ नवम्बर को माँ लक्ष्मी पूजन .... ४ नवम्बर को गोवर्द्धन पूजा तथा 
महाकवि कालिदास जयंती १३ से १५ तक त्रिद्विसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी .....
१५ नवम्बर को महा कवि विद्यापति स्मृति दिवस मनाया जाएगा तथा 
इसी दिन महारुद्राभिषेक का कार्यक्रम भी आयोजित है …. 
१६ नवम्बर  को गंगा का पूजन तथा 
वृहद दीप दान के बाद १७ नवम्बर को 
ध्वज का विसर्जन किया जाएगा ....
जानकारी अनुसार मेला में खालासाधारी संत व 
महंत और महामंडलेश्वर का पदार्पण हो चुका है ....


21 comments:

  1. अच्छी जानकारी ... आस्था से जुड़े पर्व को मानना जरूरी है अपनी पहचान बनाए रखने के लिए ...

    ReplyDelete
  2. पुरानी स्वस्थ परम्परायें फिर से स्थापित हों। सुन्दर प्रयास।

    ReplyDelete
  3. पोंगापंथी पंडित हर 'पौराणिक' बात को सीधे 'वेदिक'युग से जोड़ देते हैं उनकी साजिश से बचने की बेहद ज़रूरत है। वेदों में किसी भी प्रकार के ढोंग का वर्णन नहीं है। व्यापारी गण अपने आर्थिक हितों के लिए पोंगा पंडितों से पुराण आदि की आड़ लेकर इस प्रकार की खुराफातें आयोजित कराते रहे हैं जिनमें फंस कर सर्व साधारण सदा गरीब और जाहिल बना रहे। आवश्यकता है इन लोगों का पर्दाफाश करके जनता को इनसे दूर रखने की।

    ReplyDelete
  4. मनोहारी चित्र.पुरानी परम्पराओं को पुनर्जीवित करने का प्रयास है ,अर्धकुम्भ.
    नई पोस्ट : लुंगगोम : रहस्यमयी तिब्बती साधना

    ReplyDelete
  5. अच्छी जानकारी .... दी है आपने

    ReplyDelete
  6. आपकी लिखी रचना मुझे बहुत अच्छी लगी .........
    शनिवार 19/10/2013 को
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    में आपकी प्रतीक्षा करूँगी.... आइएगा न....
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया और आभार भी छोटी बहना
      वैसे तो मैं आपके सब पोस्ट पर आने की कोशिश करती हूँ
      इस बार आना तो फर्ज़ रहेगा

      Delete
  7. कार्तिक मास में यूँ भी नदी तालाब के जल में स्नान करना पूरे महीने ही चलता है , ऐसे में स्वस्थ परंपरा जीवित हो , अच्छा ही है !
    सुन्दर दृश्य !

    ReplyDelete
  8. अच्छी जानकारी. पिछली बार गाँव गया था तो सुना था सिमरिया से गंगा दूर होती जा रही है.

    ReplyDelete
  9. धर्मिकतापूर्ण प्रस्तुति .....कभी कभी ऐसी जानकारी भी दिल को सुकून पहुंचाती है ....

    ReplyDelete
  10. कल्पवास मेले के ऊपर सुन्दर जानकारी.. .. आपकी इस रचना के लिंक की प्रविष्टी सोमवार (21.10.2013) को ब्लॉग प्रसारण पर की जाएगी, ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें .

    ReplyDelete
  11. सादर प्रणाम |
    सुंदर जानकारी |
    सकारात्मक उर्जा से भरा |

    ReplyDelete
  12. हमारी आस्थाओं और परम्पराओं को नयी उर्जा उत्साह से रंग देते हैं
    ऐसे विशेष आयोजन---
    बहुत सार्थक और रोचक जानकारी दी है- आपने
    सुंदर चित्र संयोजन----

    सादर

    ReplyDelete
  13. इस पोस्ट की चर्चा, मंगलवार, दिनांक :-22/10/2013 को "हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच}" चर्चा अंक -32 पर.
    आप भी पधारें, सादर ....राजीव कुमार झा

    ReplyDelete
  14. सुन्दर प्रस्तुति, जानकारी से परिपूर्ण।

    ReplyDelete
  15. कल्पवास मेले के बारे में सुन्दर जानकारी.. .हमे तो पता ही नहीं था

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... ये तो आप ही बताएगें .... !!
आपकी आलोचना की जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!