Pages

देवनागरी में लिखें

Thursday, 31 October 2013

सप्रेम भेंट






सप्रेम भेंट सभी दोस्तों के लिए 
पहली दीया मैं बनाई 
हमारे दोस्तों के जिंदगी में 
रोशनी फैलाये 
सहस्रधी सहस्र जलाये 
आप सबो के लिए
*शुभ हो दीपावली* 




तांका {५७५७७}

अकेला जल
सहस्र जलाता है
सहस्रधी है
जीयें हम जीवन
दीप जैसा सीख लें

~~

16 comments:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (01-11-2013) को "चर्चा मंचः अंक -1416" पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है.

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया और आभार
      हार्दिक शुभकामनायें

      Delete
  2. चाची जी बहुत सुंदर बनाया अपने दीया और दीया पर बनायीं जो रचना वह भी बहुत सुंदर |

    ReplyDelete
  3. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  4. दीया देख कर कुम्हार के मन में आया होगा ये विचार...कहीं छिन न जाए मेरा रोजगार :) ...दीवाली की शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  5. झिलमिल-झिलमिल जब जलें, दीपक एक कतार।
    तब बिजली की झालरें, लगती हैं बेकार।
    --
    सुप्रभात...।
    आरोग्यदेव धन्वन्तरी महाराज की जयन्ती
    धनतेरस की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  6. अकेला जल
    सहस्र जलाता है
    सहस्रधी है
    जीयें हम जीवन
    दीप जैसा सीख लें
    बहुत सुन्दर.
    नई पोस्ट : दीप एक : रंग अनेक

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति..
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आप की इस प्रविष्टि की चर्चा शनिवार 02/11/2013 को आओ एक दीप जलाएँ ...( हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल : 039 )
    - पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें, सादर ....

    ReplyDelete
  8. सुन्दर प्रस्तुति,,,, आभार।।

    धनतेरस और दीपावली की हार्दिक बधाईयाँ एवं शुभकामनाएँ।।

    नई कड़ियाँ : भारतीय क्रिकेट टीम के प्रथम टेस्ट कप्तान - कर्नल सी. के. नायडू

    भारत के महान वैज्ञानिक : डॉ. होमी जहाँगीर भाभा

    ReplyDelete
  9. धनतेरस और दीपावली की हार्दिक बधाईयाँ एवं शुभकामनाएँ।।
    ये दिया आपके जीवन को भी सदा रोशन करता रहे और हम सब हर दीवाली शुभकामनायें देते रहें ....................

    ReplyDelete
  10. आपको दीपावली की शुभ कामनाएं।

    ReplyDelete
  11. आपको दीपावली की शुभकामनाएं।
    नई पोस्ट हम-तुम अकेले

    ReplyDelete
  12. !! प्रकाश का विस्तार हृदय आँगन छा गया !!
    !! उत्साह उल्लास का पर्व देखो आ गया !!
    दीपोत्सव की शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  13. जीयें हम जीवन
    दीप जैसा
    ............बहुत सुन्दर !!

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... ये तो आप ही बताएगें .... !!
आपकी आलोचना की जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!