Saturday, 7 December 2013

आंसू के रूप





आँख गहना 
आंसू के कई रूप 

5-7-5-7-7

आँख बिछुड़ी
माँ आँचल समाती
मोती बनती 
धरा अंग लगाती 
आंसू धूल सानती 

5-7-5-7-7

साथ छोड़ते
पथराई आँखों का 
नहीं निभाते
कपकपाते होठ  
बे-दर्द आंसू बैरी 


5-7-5-7-5-7-5-7-7

आँख से टूट 
बंदनवार तनी
बरौनी पर 
गम आंसू छोड़ 
पोली बांसुरी 
गुनगुनाने वाली 
जिंदगी धुन 
हृदय तान संग 
विरला बजाता है

_______________ 

11 comments:

  1. बहुत ही लाजवाब छंद हैं सभी ... दिल की छूते हुए ...

    ReplyDelete
  2. सुन्दर क्षणिकाएं.
    :-)

    ReplyDelete
  3. वाह बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  4. क्या बात ! क्या बात ....... सभी बहुत सुन्दर |

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  6. वाह ... बहुत ही बढिया ... इस उत्‍कृष्‍ट अभिव्‍यक्ति के लिये आभार

    ReplyDelete
  7. आप की इस रचना में खास यह पंक्तियाँ बहुत पसंद आई है ..
    गम आंसू छोड़
    पोली बांसुरी
    गुनगुनाने वाली
    जिंदगी धुन
    हृदय तान संग
    विरला बजाता है

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... यह तो आप ही बताएगें .... !!
आपके आलोचना की बेहद जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!

तपस्वी

 तेरा वो वाला घर सवा - डेढ़ करोड़ में बेचा जा सकता है। चालीस - पैतालीस लाख में अन्य कोई फ्लैट खरीदकर उनमें उनलोगों को व्यवस्थित कर सकते हो औ...