Sunday, 2 March 2014

हाइकु


http://thalebaithe.blogspot.in/2014/02/TBMAR1421.html?

अहसानमंद हूँ ,नवीन भाई का ....
उन्हे मेरे दो हाइकु पसंद आए ......
बहुत बहुत धन्यवाद उनका

ज्ञान का लोप
पाशविकाचरण
मृत समाज ।

गिरि वसन
धूसर अँगरखा
उजली टोपी ।


https://www.facebook.com/events/671192796252714/671851859520141/?notif_t=like

" दो शब्द एक हाईकु "

=========

पतझड़ === बसंत

1

हंसा बसंत
पतझड़ अंजाम
चूल्हा भी जला ।

2

सफाई कर्मी
आतिथेय बसंत
पतझड़ है ।

===========

पहाड़ === नदी

1

देवा पहाड़
नदी रौद्रता त्रास
रेतीला निधि ।

2

महासमर
भगीरथ पहाड़
नदी भू आई ।

==========

सूरज === चाँद

1

ताप व शीत
ज़िंदगी संतुलित
सूरज चाँद ।

2

गोदी चढ़ता
सूरज कभी चाँद
इला की मर्जी ।

==========

15 comments:

  1. बेहतरीन हाइकु हैं आंटी!

    सादर

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर हायकू....!!

    ReplyDelete
  3. वाह ! प्रकृति पर सुंदर हाइकु

    ReplyDelete
  4. लाजवाब हैं सभी हाइकू ... गहराई लिए ..

    ReplyDelete
  5. आपकी तो महारत है इस विधा में!! और वो झलकती है आपकी समस्त रचनाओं में!!

    ReplyDelete
  6. bahut sundar hayku ....padho to aise lagta hai ki chhote -chhote pairon se man me utarta jata hai koi ..

    ReplyDelete
  7. थोड़े शब्दों में बहुत कुछ कहना आसान नहीं है...बहुत ही अर्थपूर्ण और भावपूर्ण हाइकु... उत्साहवर्धन हेतु आपका आभारी हूँ...

    ReplyDelete
  8. गोदी चढ़ता
    सूरज कभी चाँद
    इला की मर्जी ।
    .........लाजवाब हैं सभी हाइकू

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... यह तो आप ही बताएगें .... !!
आपके आलोचना की बेहद जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!

चालाकी कि धूर्तता

लघुकथा लेखक द्वारा आयोजित 'हेलो फेसबुक लघुकथा' सम्मेलन का महत्त्वपूर्ण विषय 'काल दोष : कब तक?' था। आमंत्रित मुख्य अतिथि महोद...