Wednesday 26 February 2014

हाइकु { 5 / 7 / 5 }


सिक्के के दो पहलू होते हैं ......
नकारात्मक सोच नहीं रखने के बाद भी
निगाह केवल एक ही पहलू को ही क्यूँ सोचे



=====
2

चक्की जोहती 
खनकती चूड़ियाँ
दाल दरती ।

=====
3

हृदय बाग़
तितली या मक्खियाँ 
सोच निर्भर । 

=====
4

बढ़ती दूरी 
मित्र-प्रीत शुष्कता
बेधते हिय ।

=====

5

सफाई कर्मी 
आतिथेय वसंत 
पतझड़ है ।

=====

6

शजर रोता
आवारा पतावर
उदास होता ।

=====


6 comments:

  1. अनुभव से सिंचित सुन्दर हाइकु.

    ReplyDelete
  2. चक्‍की जोहती
    खनकती चूडि़या
    दाल दरती
    .....................वाह बहुत ही बढि़या

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर और सार्थक हाइकू ...............

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर हाइकु हैं...एक से बढ़कर एक...

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... यह तो आप ही बताएगें .... !!
आपके आलोचना की बेहद जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!

लड्डू : फूटना मन का!

जॉर्ज बर्नाड शॉ ने कहा है, “दुनिया में दो ही तरह के दु:ख हैं —एक तुम जो चाहो वह न मिले और दूसरा तुम जो चाहो वह मिल जाए!” हमलोग कामख्या मन्दि...