Thursday 20 February 2014

खुशी देते पल


अपने हिस्से का दुःख खुद झेलते हैं
खुशियों को दुसरे का मोहताज़ क्यूँ बनायें 

====


====

मिले तो रोजी 
ना तो मनाए रोजा 
हो ख्वाजा मर्जी ।

====

मौन संपदा
रेजगारी बोलना
मान बढ़ाता ।

=====

उत्साह फीका
है चिल्लर मुस्कान
सांझ बटुआ ।


=====

लजाई डाल 
गोद में नये पत्र  
कपोल लाल ।

=====

भविष्य भाँपो 
मकड़ी जाला दौरा
भ्रमित राह ।

=====


=====

कोमल पौधे
सह जाते हैं आँधी
वृक्ष मरते ।

=====

रंगीला मास
छेड़े मले गुलाल
रंग रसिया

====



17 comments:

  1. हर हाइकू अपने सन्देश में जीवन दर्शन समेटे हुए... काश! हमको भी लिखना आता हाइकू..!!

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर ...एक से बढ़कर एक

    ReplyDelete
  3. बड़े ही अर्थपूर्ण हाइकु।

    ReplyDelete
  4. आभारी हूँ ,बहुत बहुत धन्यवाद आपका
    स्नेहाशिष

    ReplyDelete
  5. आभारी हूँ ,बहुत बहुत धन्यवाद आपका .....
    सादर _/\_

    ReplyDelete
  6. कल 22/02/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभारी हूँ बेटे जी ...... बहुत बहुत धन्यवाद आपका ....
      हार्दिक शुभकामनायें

      Delete
  7. :) बहुत सुंदर हैं की टिप्प्णी करनी पड़ रही है सिर मत पीटियेगा वाकई बहुत सुंदर हैं :)

    ReplyDelete
  8. देखन में छोटे लगें बात कहें गंभीर !

    ReplyDelete
  9. भावो को खुबसूरत शब्द दिए है अपने.....

    ReplyDelete
  10. एक से बढ़कर एक खुबसूरत. सुन्दर हायकू

    ReplyDelete
  11. bahut achhe, prernaprad haiku.

    shubhkamnayen

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... यह तो आप ही बताएगें .... !!
आपके आलोचना की बेहद जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!

लड्डू : फूटना मन का!

जॉर्ज बर्नाड शॉ ने कहा है, “दुनिया में दो ही तरह के दु:ख हैं —एक तुम जो चाहो वह न मिले और दूसरा तुम जो चाहो वह मिल जाए!” हमलोग कामख्या मन्दि...