Monday 17 February 2014

हाइगा


नदी हो या हो नारी
दोनों की बस यही कहानी

=======
1



===========

2

जीव सींचती 
स्थितप्रज्ञ स्त्री धारा 
अंक भींचती ।

===================

3


============
4



==========

4 comments:

आपको कैसा लगा ... यह तो आप ही बताएगें .... !!
आपके आलोचना की बेहद जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!

लड्डू : फूटना मन का!

जॉर्ज बर्नाड शॉ ने कहा है, “दुनिया में दो ही तरह के दु:ख हैं —एक तुम जो चाहो वह न मिले और दूसरा तुम जो चाहो वह मिल जाए!” हमलोग कामख्या मन्दि...