Pages

देवनागरी में लिखें

Wednesday, 22 January 2020

छल

बेवकूफी पर शायरी के लिए इमेज परिणाम

घर में प्रवेश करने और लैपटॉप-पुस्तकों वाले बैग रखने के ढ़ंग से उप-प्राचार्या बिटिया के पापा को एहसास हो गया कि बिटिया बहुत गुस्से में है। उसके गुस्से को शांत करने के प्रयास में पापा ने कारण पूछा और बिटिया ने जो अपने पापा को बताया...
   दिल्ली में विभिन्न राज्यों के विश्वविद्यालयों के कुलपतियों का सेमिनार चल रहा था... एक ही शहर के दो विश्वविद्यालयों के कुलपति होने से वेदोनों पूर्व परिचित तो थे ही, सेमिनार के दौरान मित्रवत हो गये...। अपने शहर वापिस होने पर उनदोनों कुलपतियों का लगातार मिलना-जुलना चलता रहा..। राज रहने वाली बातें भी साझा होने लगी...। 'अ' विश्वविद्यालय के कुलपति का (जो बिटिया का महाविद्यालय था के) प्रधानाचार्य से सम्बंध अच्छे नहीं चल रहे थे... 'ब' विश्वविद्यालय के कुलपति 'स' महाविद्यालय के प्रधानाचार्य की शिकायतों/बुराइयों का गठरी खोले रहते... बहुत गंदे-गंदे शब्दों का प्रयोग कर लांछित करते थे... तथा साथ ही कहते, "जिस दिन उन्हें प्रधानाचार्य के पद से हटा दिया जायेगा उस दिन मेरे कलेजा को ठंढक पहुँचेगा..!"
कुछ महीनों के बाद 'स' महाविद्यालय के प्रधानाचार्य के निलंबन का पत्र आ जाता है। निलंबित होने की सूचना प्राप्त होते ही प्रधानाचार्य त्यागपत्र देते हैं और महाविद्यालय परिसर छोड़ देते हैं।
    दो चार दिनों के बाद ही उनकी नियुक्ति 'ब' विश्वविद्यालय के अंतर्गत एक महाविद्यालय में हो जाती है तथा 'स' महाविद्यालय के उप-प्राचार्या को 'ब' विश्वविद्यालय के कुलपति का फोन आता है कि अगर वो चाहेगी तो उसकी नियुक्ति भी..!
"जानते हैं पापा! मैं दंग तो नहीं हूँ.. लेकिन उनके चतुराई पर पहले बहुत गुस्सा आ रहा था, अब हँसी जरुर आ रही है...।"
 "बिटिया! महोदय की यह चतुराई नहीं है, धुर्त्तई है। ऐसे हीं लोगों से दुनिया भरी हुई है। तुम्हें शायद अपने बचपन की बातें याद हो.. खेल-खेल में जयपुर से आई काठ की हांडी को चावल पानी डालकर चूल्हे पर चढ़ा दी थी।"

बेवकूफी पर शायरी के लिए इमेज परिणाम

5 comments:

  1. मानो कोई सत्य घटना पर आधारित लघुकथा हो ..।
    आपकी लिखी लघु कथाएँ
    सार्थक संदेश प्रेषित करती है अपने आस पास की हलचल को शब्दों में पिरोना भी एक कला है।

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 23.01.2020 को चर्चा मंच पर चर्चा - 3589 में दिया जाएगा । आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ाएगी ।

    धन्यवाद

    दिलबागसिंह विर्क

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छी लघु कथा
    बधाई

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... यह तो आप ही बताएगें .... !!
आपके आलोचना की बेहद जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!