Sunday, 26 January 2020

नेकी की मूर्ति


"दंग रह जाती हूँ, इस उम्र में भी सासु-माँ घर का सारा काम कर लेती हैं..! अपने शौक पूरा करने के लिए हौसला रखती हैं... दस लोगों के लिए प्रेरणा स्रोत है! जब से वे हमारे पास रहने आई हैं.. मुझे तो मायके में रहने का सुख मिलने लगा है। शायद मायके से भी ज्यादा...। दादी-सासु जी और सासु-माँ को कभी साथ नहीं देख पायी। दादी-सासु जी भी इतना ही सहयोगी रही होंगी तभी न...," देर रात कार्यालय से लौटी नैनी अपने पति प्रभास से बोली।

"आओ अभी मेरी माँ से उनकी बहू होने के किस्से सुन लो.. जबतक मेरी नानी जीवित रही तभी तक मेरी माँ रानी रही..!"प्रभास नैनी को लेकर अपनी माँ के कमरे में पहुँच गया। उसकी माँ प्रतियोगिता में भेजने के लिए लघुकथा लेखन में उलझी हुई थी।

"बताइये न माँ जब आप बहू थीं तब क्या आपको इतना ही सुख था, जितना मुझे मिल रहा है ?" नैनी ने सास से पूछा।

"मेरी सासु-माँ की सासु-माँ सौतेली थीं.. वो ज़माना भी बहुत अलग था..! हमारे ज़माने कुछ अलग हुए लेकिन शिक्षा की कमी तो रही...। दर्द देने वाली पुरानी बातों को याद करने से खुद के ही जख्म हरे करने पड़ते हैं। मैं पूरी शिक्षित हूँ यह कैसे साबित हो सकेगा..। बदलते युग के साथ बेटियों का युग बदलना चाहिए। पहले बेटियाँ रोटी पकाती तो थीं खा नहीं पाती थी आज बेटियाँ रोटियाँ कमा लेती हैं... खाती पिज्जा बर्गर हैं। हर पीढ़ी में बेटियों की जिंदगी कंटीली झाड़ में खिले गुलाब सी होती है... और मैं एक बेटी को मिले कंटीली झाड़ को हटाने की कोशिश करती हूँ।" प्रभास को अपनी माँ बेहद खूबसूरत लग रही थीं।

"चलो माँ आज बाहर से आइसक्रीम खाने चलते हैं..।" प्रभास अपनी नम आँखें सबसे छुपाने में कामयाब रहता है।

8 comments:

  1. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" में मंगलवार 28
    जनवरी 2020 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. सस्नेहाशीष व असीम शुभकामनाओं के संग हार्दिक आभार आपका छोटी बहना

      Delete
  2. माँ माँ होती है सासू के साथ भी लगी हो तब भी। समय बदलेगा पर माँ को तो माँ ही रहना है।

    ReplyDelete
  3. सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  5. जहाँ सास बहू के गिले शिकवे पढ़कर हर किसी के मन में एक नकारात्मकता भरती है इस रिश्ते को लेकर वहीं यदाकदा आपके ब्लॉग में सासबहू के रिश्ते की मिठास सारी कड़ुवाहटों पर भारी पड़ जाती है बदलते समाज का नया आइना बहुत ही खूबसूरती से सजा रहे हैं आप....
    बहुत लाजवाब।

    ReplyDelete
  6. वाह!!बहुत खूब👌👌सास भी माँ ही तो होती है ।

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर लघु कहानी।

    नई पोस्ट पर आपका स्वागत है- लोकतंत्र 

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... यह तो आप ही बताएगें .... !!
आपके आलोचना की बेहद जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!

आखिर क्यों...

 बैसाखी पूनो/बुद्ध पूर्णिमा छान पर कोंपल सदाफूली की "क्या तुमने सुना वज़ू करने वाले स्थान में शिवलिंग मिला है!" "जब तुम नास्ति...