Friday, 9 July 2021

चित्त का छूट जाना

 

आँखों की नमी

या चश्मे पर धुन्ध !

रौप्य जयंती

लघुकथा के कार्यशाला में कॉपी का निरीक्षण करते हुए कथा पर शंका जाहिर किया तो लेखक झट से कह गया, –"यह सत्य घटना है मेरे सामने घटी है,"

"तो लेखन पूराकर अखबार के कार्यालय में भेज देते, इसमें तुम्हारी मेहनत कहाँ है ? सत्य एक का होता है। थोड़ी कल्पना का सहारा लेकर..."

""चलो मान लेते हैं आपकी बात 'सत्य मत लिखो'... सत्य कथा अखबार के लिए होती है..., 'यथार्थ' सबकी बात लिखेंगे...,"

"बहुत बढ़िया ! तुम्हारा श्रम तुम्हें बहुत आगे एक ऊँचाई पर लेकर जाएगा।"

"क्या करेंगे ऐसी ऊँचाई का ! जिसमें खुद के अनुभव के भावाभिव्यक्ति की गुंजाइश नहीं। मानो बरगद के नीचे घोलघेरे में जलहीन।"

"कहने की क्या चाहत है ?"

"गुटबन्दी के शिकार होने का अनुभव एकल का सत्य होता है..,"


1 comment:

आपको कैसा लगा ... यह तो आप ही बताएगें .... !!
आपके आलोचना की बेहद जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!

विभिन्न स्वतंत्रता

  प्रवासी इन्द्र अपनी यात्रा की यादों को छायांकन के माध्यम से साझा कर रहा था।  "बहुत सुन्दर-सुन्दर तस्वीरें। लेकिन इन तस्वीरों में आपदो...