Sunday 25 June 2023

किस्सा की कहानी


किस्सा की कहानी : डायरी में दर्ज

नवम्बर 1993

छठवीं बच्ची की भी शादी हो गयी। चिकित्सक पिता के लिए आसान नहीं था दो बेटों और चार बेटियों की अच्छी परवरिश और उच्च स्तर की पढ़ाई करवा लेना। समय पर सबकी शादी करवा गृहस्थी बसा देना। कभी-कभी पहाड़ को स्पर्श पाकर फफ़क पड़ते देखा गया।

अगस्त 1980

बड़ा बेटा चिकित्सक की पढ़ाई छोड़कर माँ के पास आ गया। उसे खर्च के लिए पिता पर बोझ नहीं बनना है। अपनी बहनों की पढ़ाई और शादी के खर्चों में सहयोग कर सके इसलिए खेती और व्यापार पर ध्यान देना है। मौसी माँ की छोटी बेटी चिकित्सक बनने की तैयारी कर रही है। उनके बेटे को भी चिकित्सक बनने हेतु प्रेरित करना है। जिम्मेदारी की दवा की कुछ खुराक ज्यादा ली है।

जून 1963

हैजा महामारी विकराल रूप धरे हुए है। ना जाने क्या विचारकर वादी-प्रतिवादी सलट लिए और उनका आपस के समझौता पत्र के साथ अदालत में मुकदमा वापस लेने की अर्जी लग गयी। अधिवक्ताओं में खलबली मच गयी वे भौंचक्क रह गए। वाद निरस्त करने का फैसला सुनाते हुए न्यायधीश ने कहा, "खुशी की बात है। जीवन में बदलते वक़्त के साथ विचारों में बदलाव हो जाता है। कई बार जिंदगी में समझौता करना पड़ता है। अगर समझौते से रिश्ता बचता है, जीवन में आगे बढ़ा जा सकता है, किसी का भला हो जाता है और नफरत मिट जाती है तो समझौता कर ही लेना चाहिए। और सुलह इस आधार पर हुई कि तीन दिन पति एक पत्नी के साथ और तीन दिन दूसरी पत्नी के साथ रहेगा। रविवार और पर्व वाले दिन पूरा परिवार एक को साथ, यदि चाहें  मिलते रहेंगे और कोई भविष्य में किसी पर किसी तरह का मुकदमा नहीं कर सकेगा।

मार्च 1960

माता-पिता की पसंद से बड़ी बहन से शादी किया था।तीसरे प्रसव के समय बच्चों का ख्याल रखने के लिए बहन आयी थी। उसके गर्भ ठहर जाने के कारण बहनोई से शादी करनी पड़ी। दोनों ने मिलकर अदालत में पहली पत्नी से तलाक का मुकदमा दायर कर दिया। फिर प्रयत्नशील हुआ गया,  संघर्ष की लंबी और अंधेरी रात काटकर सफलता की प्रकाशित भोर सबके हिस्से में लाया जा सके।



6 comments:

  1. चार दशक के थैले किस्सों के |

    ReplyDelete
  2. मन को झकझोर गई आपकी लेखनी!
    मार्मिक विषय को रेखांकित किया है आपने!
    आपकी लघुकथा शैलियां प्रेरक हैं।

    ReplyDelete
  3. कड़वी सच्चाई कहती कहानी !
    बड़ी बहन की गृहस्थी उजाड़ कर अपनी जीजा के साथ घर बसाने वाली सालियाँ और सालियों के साथ रंगलियाँ मनाने वाले जीजा हर शहर, हर कस्बे और हर गाँव में होते हैं. किस्मत तो बड़ी बहन की और बच्चों की, फूटती है.

    ReplyDelete
  4. कटु सत्य... ऐसे किस्से सुनकर और जानकर भी भेजने वाल
    बड़े बुजुर्ग खुद दोहराते हैं ऐसी गलतियां ।छोटी को बड़ी की मदद के नाम...

    ReplyDelete
  5. मर्मांतक लेखन प्रिय दीदी।पर मुझ मूढ को घटनाओं का ये उल्टा क्रम समझ नहीं आ सका????🤔🤔🤔🤔😞🙏

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... यह तो आप ही बताएगें .... !!
आपके आलोचना की बेहद जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!

लड्डू : फूटना मन का!

जॉर्ज बर्नाड शॉ ने कहा है, “दुनिया में दो ही तरह के दु:ख हैं —एक तुम जो चाहो वह न मिले और दूसरा तुम जो चाहो वह मिल जाए!” हमलोग कामख्या मन्दि...