Monday, 27 January 2014

हाइकु







हाइकु

{{ 5 / 7 / 5 }}

1

गाये तराना
आलौकिक सम्बन्ध
साथ हमारा ।

2

साख बचाती
चिंगारी राख़ दबी
वक़्त बताती ।

3

पूनो दमके
नथ अम्ब नसिका
चन्द्र चमके ।

4

बर्फ का गोला
कॉफी का झाग बना
सर्दी का खेला।

https://www.facebook.com/groups/246449005405631/694147990635728/?notif_t=like

5

दिल है काला
अंधे गूँगे ताल दें
नाम कमाना ।

6

हम और मैं
सुर संग्राम करें
जीत जाता मैं।

7

बर्फ का गोला
कॉफी का झाग बना
सर्दी का खेला।

8

पुल के नीचे
चांदनी ढूंढे साया
नदी छुपाती।

9

आँसू नभ के
लड़े आदित्य धरा
ओस टपके ।

10

सियासी ताप
मुद्दो में लगी आग
जिंदगी मुर्दा .

11

घातक आस
गिरता स्वाति बूंद
चातक प्यास।

12

नक्षत्र स्वाति
प्यास बुझाती बूंद
मोती बनती।

13

कुतप डरा
चंद्रमा - स्वेद झड़ा
कुहासा छाया ।

14

राग अलापे
सारा जग हमारा
स्वार्थी अभेरा।

15

दिमाग कुंद
मिटा देता रिश्ता है
शक़ की बूंद।

16

तीखा जहर
शीत बारिश वर
फसल पर।

17

शीत लहर
प्रकृति का कहर
चारो पहर।

=====
End
=====

  please do not worry
every thing heppens at the wishes of God
you Want to live ,But you can not live
Who wants to die can not die .....

~~~~~~~~~~~~~~~

12 comments:

  1. पूनो दमके
    नथ अम्ब नसिका
    चन्द्र चमके ।
    बेहतरीन बिम्ब !

    ReplyDelete
  2. वाह ....एक से बढ़कर एक हाइकू ....

    ReplyDelete
  3. सारे के सारे
    बहुत ही प्यारे

    ReplyDelete
  4. Bahut badhiya haiku vibha rani

    ReplyDelete
  5. Bahut badhiya haiku vibha rani

    ReplyDelete
  6. सुन्दर मननीय हाइकु

    ReplyDelete
  7. सभी बहुत सुन्दर और सार्थक है>> बधाई विभा...

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति, आभार आपका।

    ReplyDelete
  9. वाह सभी बहुत बढ़िया |

    ReplyDelete
  10. तीखा जहर
    शीत बारिश वर
    फसल पर।
    ...एक से बढ़कर एक हाइकू ....

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... यह तो आप ही बताएगें .... !!
आपके आलोचना की बेहद जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!

विभिन्न स्वतंत्रता

  प्रवासी इन्द्र अपनी यात्रा की यादों को छायांकन के माध्यम से साझा कर रहा था।  "बहुत सुन्दर-सुन्दर तस्वीरें। लेकिन इन तस्वीरों में आपदो...