Tuesday, 30 June 2020

जीत

Hindi women story | maa baap aur beti | माँ बाप और बेटी
"अब हमें अपने घर वापस चलना चााहिये। कोरोना के भय से कब तक हम यहाँ विदेश में पड़े रहेंगे ?"  एकांश की माँ ऐश ने कहा
"ऐसी परिस्थिति में हमारा यहाँ रहना ज्यादा उचित है श्रीमती जी। बेहद नाजुक और भयावह परिस्थितियों का सामना करना पड़ सकता है !" एकांश के पिता एकनाथ ने कहा।
चानक से आर्थिक मंदी का सामना करने वाली अनेकों कम्पनियों ने अपने कर्मचारियों की छंटनी कर दिया। एकांश की नौकरी भी उसी क्रम में छूट गई। एक तरफ विदेशी जमीं , मकान का लोन तो दूसरी तरफ़ उसी का आर्थिक सम्बल लिए बुजुर्ग माता-पिता, पत्नी एकता और 5 साल की बेटी ईशा थी। मल्टीनेशनल कम्पनी में उच्च पदासीन एकांश अन्य कई कम्पनियों में साक्षात्कार दे रहा था। लेकिन सफलता हासिल नहीं होने के कारण उसमें चिडचिडापन आता जा रहा था
कांश पर आर्थिक भार कम करने के लिए उसकी माँ ऐश अपने पति से देश वापस लौटने की चर्चा छेड़ती है...,-"हम घर जाकर गाँव की जमीन बेचकर एकांश की मदद कर सकते हैं।"
"जमीन-गहना बेचकर मदद करना आखिरी आधार होगा। यहाँ एक महाविद्यालय में मुझे हिन्दी प्रख्याता की नौकरी मिल गई है।" एकनाथ ने कहा।
"आपका कोचिंग बंद करवाकर आराम करने के लिए मैं अपने साथ लेकर आया था
 मुझे आत्मग्लानी हो रही है।" एकांश ने कहा।
"हो सकता है कुछ महीने या या एक-दो साल मुझे यह नौकरी करनी पड़े जैसे तुम्हें तुम्हारी पसंद की नौकरी लग जायेगी ,मैं पुन: आराम करने लग जाऊँगा। असमय लाठी का सहारा लेना वक्त को बर्दाश्त नहीं हो पाया..।" एकनाथ ने ठहाका लगाते हुए कहा।
"सुनो जी! मैं भी घर में बने खाने का ऑर्डर लेना चाहती हूँ। वर्षो पहले तुमने मुझसे वादा लिया था अपनी कसम देकर कि मैं कभी नहीं कमाऊँगी।" ऐश ने कहा।
"आकस्मिक युद्ध में तुम भी योद्धा होने का सुख उठा ही लो! तुम्हें अपनी कसम से मुक्त करता हूँ।" एकनाथ ने कहा।
"चलिए माँ बाज़ार से खरीदकर लानेवाली सामग्री की सूचि बनाते हैं.. मैं भी आपकी सहायिका बनना चाहती हूँ। बहती गंगा में आचमन कर ही लूँएकता ने कहा।

धरा धारा माँ पाषाण दिखती है।
सबक जीवन का सिखलाती है।
बचपन के ज़माने को जाने ना दें,
उसकी दुआ ही दंश से लड़ती है।


5 comments:

  1. समय की समुंदर में तूफान कोई भी हो अपनो़ के आपसी स्नेह, एकजुटता, सहयोग की भावना और कर्मठता पतवार की तरह नौका संभाल लेती है।
    बहुत सुंदर भावपूर्ण और प्रेरक संदेश प्रेषित करती सराहनीय लघुकथा दी।
    सादर।

    ReplyDelete
  2. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज मंगलवार 30 जून 2020 को साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. जब आपसी प्यार और सहयोग की भावना हो तो जंग कोई भी हो जीत निश्चित होती है ,सुंदर लघु कथा ,सादर नमन दी

    ReplyDelete
  4. बाँध कर रखने वाली लघु कथा। प्यारा संदेश लिए अच्छे भाव उकेरे हैं आपने
    सादर नमस्कार

    ReplyDelete
  5. परिवार के आपसी स्नेह को दर्शाती सुंदर रचना ।

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... यह तो आप ही बताएगें .... !!
आपके आलोचना की बेहद जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!

परबचन गीत

अ नोखी रीत समझ में बात है आयी, आ त्ममुग्धता  समझ में घात है आयी। थ मे राह लो परंजय उँगली थमाया क्यों झट गर्दन दबोचने नहीं दिया ...