Thursday, 20 August 2020

प्रसंगविरुद्ध न्याय


[17/08, 2:30 am]: Accha ek bat puchni hai..yu hi...appko Tushar sir hi kyu sahi lagte hai aur duniya galat?

–सन् 2015 शायद मार्च-अप्रैल 'Tushar Gandhi' जी  से भेंट हुई .. । सन् 2012 से डॉ. Vyom जी के लेख से 'अनुभव के क्षण' को हम जानने-समझने-लिखने में प्रयत्नशील थे । उनसे एक दिशानिर्देश मिला.. अब भी "हाइकु'-सफर जारी है" के लिए प्रयत्नशील हैं..

[17/08, 2:34 am]: Par teacher ek hi hota hai yaha to teacher hi das tarah ka bat bata rahe hai

[17/08, 2:35 am] विभा रानी श्रीवास्तव: सो जाओ.. जब जगना तो अध्ययन करना अनुभव के क्षण, जेरोक्स, तस्वीर बनाने वाली बात पर..

[17/08, 2:36 am] : Par pusak ek hi hai di..degree bhi ek hi

[17/08, 3:09 am] विभा रानी श्रीवास्तव: एक ही कक्षा में कोई छात्र प्रथम, द्वितीय और कोई छात्र फेल क्यों हो जाता है?

'एक देश'
–देश में अलग-अलग शहर..
–देश के अलग-अलग शहरों में अलग-अलग विद्यालय..
–देश के अलग-अलग शहरों के अलग-अलग विद्यालयों में अलग-अलग शिक्षक..
–देश के अलग-अलग शहरों के अलग-अलग विद्यालयों में अलग-अलग शिक्षको के लिए एक ही कक्षा..
–अलग-अलग शहरों के अलग-अलग विद्यालयों में अलग-अलग शिक्षको के एक ही कक्षा में चलती एक पुस्तक..
––अलग-अलग शहरों के अलग-अलग विद्यालयों में अलग-अलग शिक्षको के एक ही कक्षा में चलती एक ही पुस्तक.. से प्रथम ही आये सभी अध्येताओं का बौद्धिक स्तर व व्यक्तित्व में विभिन्नता क्यों...,"


No comments:

Post a Comment

आपको कैसा लगा ... यह तो आप ही बताएगें .... !!
आपके आलोचना की बेहद जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!

चालाकी कि धूर्तता

लघुकथा लेखक द्वारा आयोजित 'हेलो फेसबुक लघुकथा' सम्मेलन का महत्त्वपूर्ण विषय 'काल दोष : कब तक?' था। आमंत्रित मुख्य अतिथि महोद...