Saturday, 29 January 2022

आज की


 सिल पर पीसते हुए

चटनी बना डाली

 तय किया गया

दूसरों का हद

वो चार लोग

जो विराजमान थे

समाज के भयावह पद।

°°°

एक उम्र तक आते-आते

 समझौता भी खत्म हो जाता है

खुद की आदत

 खुद को ही कमजोर

दिखलाने में अव्वल हो जाती है।

°°°

जब तक मौन रही

सह देती रही

सह देना तो

सहना किसे..?

 शासक होना

किसे नहीं जँचता!



16 comments:

  1. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" पर रविवार 30 जनवरी 2022 को लिंक की जाएगी ....

    http://halchalwith5links.blogspot.in
    पर आप सादर आमंत्रित हैं, ज़रूर आइएगा... धन्यवाद!

    !

    ReplyDelete
  2. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (30-1-22) को "भावनाएँ मेरी अब प्रवासी हुईं" (चर्चा अंक 4326)पर भी होगी।आप भी सादर आमंत्रित है..आप की उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ायेगी .
    --
    कामिनी सिन्हा

    ReplyDelete
  3. भ्रम बने रहना क्या बुरा है ख़ुद के लिए करते चलें जारी शशानादेश

    ReplyDelete
  4. उव्वाहहहहहहह..
    कित्ते दिन बाद
    एक धारदार रचना
    सादर नमन..

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपको पसन्द आयी
      श्रम सफल हुआ
      असीम शुभकामनाओं के संग सस्नेहाशीष छोटी बहना

      Delete
  5. एक उम्र तक आते-आते

    समझौता भी खत्म हो जाता है

    खुद की आदत

    खुद को ही कमजोर

    दिखलाने में अव्वल हो जाती है।

    सही कहा।
    सारगर्भित सृजन।
    सादर

    ReplyDelete
  6. ज़िन्दगी के अनुभव सहेज लिए हैं ।बेहतरीन ।

    ReplyDelete
  7. बहुत बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  8. अजीब विडंबना.. यक्ष प्रश्न

    ReplyDelete
  9. सुंदर सृजन!
    एक उम्र तक आते-आते
    समझौता भी खत्म हो जाता है
    सत्य सृजन!--ब्रजेंद्रनाथ

    ReplyDelete
  10. मौन रहना और सहना, अपने को कमजोर दिखाना.... स्त्री ने मानो नियति मान ली है अपनी !

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... यह तो आप ही बताएगें .... !!
आपके आलोचना की बेहद जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!

तपस्वी

 तेरा वो वाला घर सवा - डेढ़ करोड़ में बेचा जा सकता है। चालीस - पैतालीस लाख में अन्य कोई फ्लैट खरीदकर उनमें उनलोगों को व्यवस्थित कर सकते हो औ...