Monday, 24 January 2022

कोढ़

कई दिनों पहले से अनेक स्थलों पर बड़े-बड़े इश्तेहार लग गए... 'नए युग को सलामी : खूँटे की नीलामी'
तय तिथि और निर्धारित स्थल पर भीड़ उमड़ पड़ी थी। नीलामी में विभिन्न आकार-प्रकार के सजे-सँवरे खूँटे थे और सब पर अलग-अलग तख्ती लटकी हुई थी और उसपर लिखा हुआ था... "जो खूँटा रास्ते की रुकावट बने, उस खूँटे को उखाड़ फेंकना चाहिए।"

नए युग की सलामी : पर्दा उन्मूलन के खूँटे की नीलामी

नए युग की सलामी : भ्रूण हत्या के उखड़े खूँटे की नीलामी

नए युग की सलामी : बाल विवाह के उजड़े खूँटे की नीलामी

नए युग की सलामी : देवदासी पुनर्वास के खूँटे की नीलामी

नए युग की सलामी : नारी शिक्षा के खूँटे की नीलामी

नए युग की सलामी : विधवा विवाह के खूँटे की नीलामी

इत्यादि..! 

लेकिन एक बड़े खम्भेनुमा मजबूत खूँटे पर तख्ती लटकी हुई थी। जिस पर लिखा था, "अभी नीलामी का समय नहीं आया है.."

"ऐसा क्यों ?" भीड़ ने पूछा।

"तख्ती पलट कर देख लो!" आयोजक ने कहा

तख्ती के पीछे लिखा था,

'13 वाँ राष्ट्रीय बालिका दिवस'

24 जनवरी 2022

और

 '72 वाँ गणतंत्र दिवस'

26 जनवरी 2022

'बलात्कार व भ्रष्टाचार का खूँटा'


3 comments:

आपको कैसा लगा ... यह तो आप ही बताएगें .... !!
आपके आलोचना की बेहद जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!

आखिर क्यों...

 बैसाखी पूनो/बुद्ध पूर्णिमा छान पर कोंपल सदाफूली की "क्या तुमने सुना वज़ू करने वाले स्थान में शिवलिंग मिला है!" "जब तुम नास्ति...