Monday 11 June 2012

* धरा का आलिंगन *






वसंत के मोहक

वातावरण में ,

धरती हंसती ,

खेलती जवान हुई ,

ग्रीष्म की आहट के

साथ-साथ धरा का

यौवन तपना शुरू हुआ ,

जेठ का महीना

जलाता-तड़पाता

उर्वर एवं

उपजाऊ बना जाता ,

बादल आषाढ़ का

उमड़ता - घुमड़ता

प्यार जता जाता ,

प्रकृति के सारे

बंधनों को तोड़ता ,

पृथ्वी को सुहागन

बना जाता ....

नए - नए

कोपलों का

इन्तजार होता ....

मॉनसून जब
धरा का 

आलिंगन

करने आता ....

5 comments:

  1. लिखा न गज्जब :) भाव जब हो तो कौन रुकेगा कौन रोकेगा

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी छत्रछाया जिसे मिल जाए वो तो कुछ न कुछ लिख ही लेगा.... कहते हैं, न पारस के संपर्क में आते पत्थर भी सोना हो जाता है .... सोना न सही कोई धातु बनने का प्रयास जारी है .... !!

      Delete
  2. बहुत खूब आंटी!


    सादर

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... यह तो आप ही बताएगें .... !!
आपके आलोचना की बेहद जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!

मानी पत्थर

 “दो-चार दिनों में अपार्टमेंट निर्माता से मिलने जाना है। वो बता देगा कि कब फ्लैट हमारे हाथों में सौंपेगा! आपलोग फ्लैट देख भी लीजिएगा और वहीं...