Monday 28 January 2013

रच शौर्य गाथा ना गा चाँचरी( वह गाना जो वसंत में गाया जाता है )


आज लगता है , काश मुझे भी होती , एक धी .....
******************************************
आ जा ,सुन ल जा बात खरी-खरी(स्पष्ट)
ना बताइब ,ना समझाइब बारी-बारी(बार-बार)
बहुत चला चु क ल जा जुबान के आरी(लकड़ी काटने वाला)
अब आ गइल बा ओकर पारी
अपने पे आगइल त पड़ी भारी
शर्मों - हया से संकुचल नारी
पा जाये मान - सम्मान त हो जाए वारीफेरी(निछावर)
ना समझ ओकरा क अबला-बेचारी
संगी संयमित ना रहे त मार पिला-पिला वारि(पानी)
ना बुझ बेटी के  नाजुक गिरी(किसी बीज के अन्दर का गुदा)
उ लाँघ चूकल बड़हन(ऐवरेस्ट) गिरि(पहाड़)
कोई छूये ना , ओकर आँचल के किनारी
ना त भोंक दी , तोरा छाती पे कटारी
हो चुकल अरिघ्न(शत्रु का नाश करने वाली) ना बना व जा अरि
ना बन के अब रह सके दुधारी
ओकरा पास बा कलम-बेलन दुधारी
रच शौर्य गाथा ना गा चाँचरी( वह गाना जो वसंत में गाया जाता है )
बहुत बन के रह चु क ल गठरी-कुररी(मादा-टिटहरी)
मेहनत के रंग दिखला बन चातुरी(चतुराई,धूर्तता)




7 comments:

  1. खूब कहिन
    सिखा दो न दीदी हमें भी

    ReplyDelete
  2. सुंदर कविता ...आंचलिक शब्द प्रभावी बना रहे है

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया.. सुंदर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  5. कोई छूये ना , ओकर आँचल के किनारी
    ना त भोंक दी , तोरा छाती पे कटारी

    इसी की ज़रुरत है ..बहुत सुन्दर लगी कविता... आंचलिक रस ने इसे और भी प्यारा बना दिया :)

    ReplyDelete
  6. आंचलिक भाषा या बोली, इसकी मिठास ही अलग है ,उसका स्वाद इसमें आया .
    New post बिल पास हो गया
    New postअनुभूति : चाल,चलन,चरित्र

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... यह तो आप ही बताएगें .... !!
आपके आलोचना की बेहद जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!

लड्डू : फूटना मन का!

जॉर्ज बर्नाड शॉ ने कहा है, “दुनिया में दो ही तरह के दु:ख हैं —एक तुम जो चाहो वह न मिले और दूसरा तुम जो चाहो वह मिल जाए!” हमलोग कामख्या मन्दि...