Sunday, 6 July 2014

हाइकु


जिस दिन व्योम जी कोई हाइकु पास करते हैं …. लगता है सार्थक हुआ सीखना .....



हँसती बूंदें
बूढी छतरी देख
आस तोड़ती।

==========================

वादों को ढोता
वक़्त कुली बना है
कर्म मजूरी। 

2

भू है उदास 
आस मेघ पालकी 
हवा कहार। 

3

दूर है छोर 
पर देते हैं पीड़ा 
पर क़तर। 

=

12 comments:

  1. बहुत खुबसूरत हायकू..बधाई विभा..

    ReplyDelete
  2. सुंदर प्रस्तुति आदरणीय , आप की ये रचना चर्चामंच के लिए चुनी गई है , सोमवार दिनांक - ७ . ७ . २०१४ को आपकी रचना का लिंक चर्चामंच पर होगा , कृपया पधारें धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. स्नेहाशीष शुक्रिया .... आभारी हूँ ....

      Delete
  3. बहुत ही मानीख़ेज़ हाइकू हैं दीदी!

    ReplyDelete
  4. सुन्दर हाइकु, बधाई.

    ReplyDelete
  5. सुन्दर उपमान और उपमेय |
    नई रचना उम्मीदों की डोली !

    ReplyDelete
  6. वाह ... बहुत ही सुन्दर हाइकू हैं सभी ...

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुन्दर हाइकू

    ReplyDelete
  9. खूबसूरत हाइकु, सुंदर हाइगा…बधाई स्वीकारें!

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... यह तो आप ही बताएगें .... !!
आपके आलोचना की बेहद जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!

तपस्वी

 तेरा वो वाला घर सवा - डेढ़ करोड़ में बेचा जा सकता है। चालीस - पैतालीस लाख में अन्य कोई फ्लैट खरीदकर उनमें उनलोगों को व्यवस्थित कर सकते हो औ...