Wednesday, 23 July 2014

आ गया मॉनसून




तांका 

1

नूर की बूँदें
उदासी छीन रही
इक आसरा
तरुणी हुई धरा 
अनुर्वरा ना रही

======

2

बूँदों की धुन
झींगुर सुर संग
कील निकाले
पेंगो संग सपने
ऊँची उड़ान चढ़े  


पेंगो की चाह 
वहशी करे पीछा
कदम खींचे।


15 comments:

  1. मनहारी तांका

    ReplyDelete
  2. सुंदर वर्नण...
    सुंदर अंदाज मे....

    ReplyDelete
  3. अपने मन की उमंग को सुन्दर शब्द दिए हैं।बधाई।

    ReplyDelete
  4. बहुत मनभावन प्रस्तुति....

    ReplyDelete
  5. आपकी इस पोस्ट को ब्लॉग बुलेटिन की आज कि बुलेटिन 3 महान विभूतियाँ और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
  6. हाइकु ने आज का दर्द बयाँ किया है. कभी तो ठीक होगा सब.

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... यह तो आप ही बताएगें .... !!
आपके आलोचना की बेहद जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!

चालाकी कि धूर्तता

लघुकथा लेखक द्वारा आयोजित 'हेलो फेसबुक लघुकथा' सम्मेलन का महत्त्वपूर्ण विषय 'काल दोष : कब तक?' था। आमंत्रित मुख्य अतिथि महोद...