Wednesday, 3 June 2020

कौशल



"अरे! रामरतन! बहुत दिनों के बाद दिखलाई दिए। कैसे हो और कहाँ रहे?"रोमा ने पूछा।
"मैडम जी पिंजड़े में ही था !" रामरतन ने कहा
"यह क्या है तुम्हारे पास सदा साथ देने वाला तुम्हारा सब्जियों वाला ठेला कहाँ गया? हमें बहुत सहूलियत रहती थी..।" रोमा सवालों के मशीनगन दाग रही थी।
  करीब पंद्रह-सोलह साल से रोमा अपने पति रोनित के संग उस अपार्टमेंट में रह रही थी । बिना नागा रामरतन को सब्जियों का ठेला लगाते देखा था। ऋतु बदलते रंग में, अचानक किसी अतिथि के आने से , अपने अस्वस्थ्यता में सब्जियाँ खरीदने जाने में उन्हें कभी परेशानी नहीं उठानी पड़ी। रामरतन को शहर से बाहर जाना होता तो भी वो सब्जियों से भरा ठेला उस अपार्टमेंट में गार्ड के हवाले कर जाता।
"वो क्या है मैडम जी सब्जियाँ बेचना सही नहीं रह गया था। कहीं मजूरी मिल नहीं रही थी। फाके के नौबत आ गए। मेरी पत्नी सिलाई का रोजगार करती थी। कुछ कपड़े घर में पड़े थे
कुछ पैसे गुल्लक में थे। उससे दोहरे कपड़े का फेसमासक व एक-एक सेनेटाइजर , थर्मोमीटर और साबुन कुछ जुगाड़ कर...।"
"सब्जियाँ तो बेची ही जायेगी और दूसरे ठेले वाले..,"
"शाबास रामरतन! तुम जो कर रहे हो बहुत अच्छा काम कर रहे... हम ऐसा काम करें जो दूसरे उसका नकल करें! और सुनो रोमा बाज पक्षियों संग नहीं उड़ता।" रोमा को अधूरी बात में टोकते हुए रोनित ने कहा।

××××××××

चिंता केवल अपनी करनी है ... अपने बचाव के लिए केवल अपने हाथों को साफ किया जा सकता है... सुरक्षा के लिए अपनी गाड़ी का प्रयोग करना है.. जो आबादी है और जिनके पास गाड़ी है और जिन्हें कार्य–स्थल जाना है ये तो भीड़ होना/ जाम होना स्वाभाविक है...

11 comments:

  1. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" सोमवार 01 जून 2020 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज बुधवार 03 जून 2020 को साझा की गई है....  "सांध्य दैनिक मुखरित मौन  में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. कौशल को थोड़ा सा इशारा भर सहारा मिल जाये सरकार से झूठ मूठ वाला नहीं तो सोने पे सुहागा हो जाये।

    ReplyDelete
  4. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 4.6.2020 को चर्चा मंच पर चर्चा - 3722 में दिया जाएगा। आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ाएगी।
    धन्यवाद
    दिलबागसिंह विर्क

    ReplyDelete
  5. अच्छी लघुकथा दी। कुछ ज्यादा मेहनत करके भी कमाई का जरिया मिलता रहे लोगों को,इस वक्त वही काफी है।

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  7. बहुत अच्छी लघुकथा दीदी कौशल हो तो आदमी कभी भूखा नहीं मरता।

    ReplyDelete
  8. अच्छी सार्थक लघुकथा

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... यह तो आप ही बताएगें .... !!
आपके आलोचना की बेहद जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!

तपस्वी

 तेरा वो वाला घर सवा - डेढ़ करोड़ में बेचा जा सकता है। चालीस - पैतालीस लाख में अन्य कोई फ्लैट खरीदकर उनमें उनलोगों को व्यवस्थित कर सकते हो औ...