Friday, 15 May 2020

अडिग



Write a 5 Lines Story this week ❤

लेखन कार्य करना है 5 पंक्तियों में एक कहानी.., दी गई तस्वीर से जुड़ी।

7 Best Stories को किया जायेगा स्पेशल फीचर इस रविवार  🙂

अपने किन्ही 5 दोस्तों को फेसबुक पर भी टैग करें।

नीरजा कृष्णा , पटना

–आदरणीया  Nirja Krishna जी
🤔सिर्फ 5 को टैग करना असंभव तो है अतः जिन्हें #टैग करवाने की #इच्छा हो उनका #स्वागत है

#5LinesStory
#ThePinkComrade

मेरी_पाँच_पँक्तियों_की_कहानी_कुछ_यों_चली

01. पँक्ति_एक :–,-शेर-ए-कश्मीर इंस्टीच्यूट ऑफ मेडिकल साइंस से अंतिम परीक्षा देकर शुचिता घर वापिस आई तो फिर उस पहाड़ी शहर में साल भर के बाद ही चिकित्सक बनकर आ पाई।

02. पँक्ति_दो :–,-1934 और 2015 में आये भूकम्प ने जिस तरह धन-जन-जमीन को क्षति पहुँचा दिया था, 2020 के दिसम्बर में धन-जन-मन की क्षति स्पष्ट रूप से नजर आ रही थी।

03. पँक्ति_तीन :–,-"शुचिता ने तय किया कि वह बिना धन लिए जन के साथ उनके मन की भी सेवा करेगी, जिसके लिए उसे युवाओं की मंडली बनानी पड़ेगी।

04. पँक्ति_चार :–,-"जबतक भेजे को साफ करने वाला थ्रेसर नहीं आ जाता, तबतक उसे धैर्य से काम चलाना चाहिये..," कई बार मज़ाक-मज़ाक में सुनी बात ,उसे सच साबित होती नजर आ रही थी।

05. पँक्ति_पाँच :–, शुचिता को अपने लगन व श्रम पर पूरा विश्वास था कि "ताला में ही तो जंग लगा है..,"

2 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज शुक्रवार 15 मई 2020 को साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. सस्नेहाशीष व शुभकामनाओं के संग हार्दिक आभार छोटी बहना

      Delete

आपको कैसा लगा ... यह तो आप ही बताएगें .... !!
आपके आलोचना की बेहद जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!

चालाकी कि धूर्तता

लघुकथा लेखक द्वारा आयोजित 'हेलो फेसबुक लघुकथा' सम्मेलन का महत्त्वपूर्ण विषय 'काल दोष : कब तक?' था। आमंत्रित मुख्य अतिथि महोद...