Thursday, 24 February 2022

कालोत्परिवर्तन


हाथ पसारे अम्मा आँचल के छोर से सुहाग का धागा माँग रही थी। धोबिन काकी का मुँह सीधा ही नहीं हो रहा था और सीधा हो भी कैसे..! कुछ दिनों पहले दूसरे टोला में शादी थी और दादी ने धोबिन काकी और उनकी बहू-बेटे, पोता-पोती को अपने घर के पोशाक में देखकर लताड़ लगायीं तो लगायीं अपने घर का दरवाजा बन्द कर दी थीं। "यह भी कोई बात हुई, हमारे खेत भी लो धुलाई के अनाज भी लो और धुलने गए कपड़ों को पहन भी लो।" दादी के गुस्से का बादल फट पड़ा था।

बड़ी अम्मा रंग बिरंगी चिड़ियों की लड़ी से पिटारा भर रही थीं जिसे उन्होंने दर्जी काका से कतरनें लाकर बनायी थीं। "छ महीने से लेकर तीन साल के बच्चे  की पोशाक तुम हमारे कपड़ों से बना लेते हो!" जोर की डाँट और खेत वापस लेने की धमकी भी दे आई थीं।

बुआ धान का लावा भुनने के लिए नेग में झुमका ठानी थीं लेकिन गोंड़ दादी के कान पर जूं नहीं रेंग रहा था। उन्हें भी अपने गोंसार उजाड़े जाने का मलाल था जो दादा के अमराई में था। अमराई की शोभा कटहल, अड़हड़-बड़हड़ भी बढ़ाते थे।

चिकित्सक बन्नी के होने वाले ससुराल की मांगों को पूरा करने के लिए बाबा उन जमीनों के कागजात के बदले लाखों रुपये ले ही रहे थे कि चिकित्सक बन्ना ने रोक दिया। लू दोपहरी में धोरे के दौरे में बादल उमड़ रहे थे।

6 comments:

  1. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार(२५ -०२ -२०२२ ) को
    'खलिश मन की ..'(चर्चा अंक-४३५१)
    पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    सादर

    ReplyDelete
  2. परिवर्तन के कितने रंग...

    ReplyDelete
  3. समय तो बदलता ही है ।
    बहुत कुछ कहती सराहनीय लघुकथा ।

    ReplyDelete
  4. विविध मंथन है इस छोटी कहानी में मनोज वैज्ञानिक कथा।
    सुंदर।

    ReplyDelete

आपको कैसा लगा ... यह तो आप ही बताएगें .... !!
आपके आलोचना की बेहद जरुरत है.... ! निसंकोच लिखिए.... !!

अँधेरे घर का उजाला

"किसे ढूँढ़ रहे हो?" शफ्फाक साड़ी धारण किए, सर पर आँचल को संभालती महिला ने बेहद मृदुल स्वर में पूछा। तम्बू के शहर में एक नौजवान के...